इन दिनों में कभी न पहनें नया कपड़ा... बहुत बुरा होता है अंजाम

punjabkesari.in Monday, Dec 05, 2022 - 05:08 PM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
आपने बहुत लोगों से कहते सुना होगा कि हफ्ते के कुछ 1-2 दिन नया कपड़ा नहीं पहनना चाहिए। मगर इसमें बहुत कन्फ्यूजन रहती है कि आख़िर वो कौनसे दिन हैं। तो आपकी जानकारी के लिए बता दें आज हम आपको इस आर्टिकल में आपको इसी से जुड़ी खास जानकारी के बारे मे बताने जा रहे हैं। जिसमें विस्तारपूर्वक आपको बताएंगे वो साथ ही ऐसा क्यों कहा जाता है इसके पीछे का कारण हैं इसका का भी विश्लेषण करेंगे। तो आइए बिल्कुल भी देर न करते हुए विस्तारपूर्वक जानते हैं इस संदर्भ से संबंधित जानकारी-
PunjabKesari
इस दिन नया कपड़ा न पहनें
मंगलवार को नए वस्त्र नहीं धारण करने चाहिए। इस दिन नए वस्त्रों के प्रयोग से क्रोध और विवाद की आशंका बढ़ जाती है। मंगलवार को यृद्ध सामग्री और बिजली यंत्रों के उपयोग के लिए अच्छा माना जाता है। युद्ध और कलकारखानों में पहने जाने वाले नए सुरक्षा उपकरण ही मंगलवार को पहनना शुभ है।

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं । अपनी जन्म तिथि अपने नाम , जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर वाट्स ऐप करें
PunjabKesari
इस दिन नया कपड़ा पहनना माना जाता है शुभ
बुधवार और गुरुवार को नए वस्त्रों को पहनना शुभकारक है। संस्थान से जुड़ीं गणवेश और विद्यालय की नई पोशाकें इन्हीं वारों मे पहना जाना श्रेष्ठकर है। शनिवार और रविवार को नवीन वस्त्रों के इस्तेमाल से बचना चाहिए। इन वारों को धारण किए गए नववस्त्र रोगादि को बढ़ावा देते हैं। कार्यगति भी प्रभावित होती है। जानकारी के लिए बता दें कि अगर रविवार, मंगलवार और शनिवार को नए कपड़े पहनना आवश्यक ही हो तो इन्हें सोम, बुध, गुरु और शुक्रवार को अत्यल्प समय के लिए पहन लें। फिर इन्हें उतार कर सम्हाल कर रख लें। इससे नवीन वस्त्र को पहनने का दोष दूर हो जाता है।

PunjabKesari
वैसे तो सप्ताह का प्रत्येक दिन अलग अलग कार्यां के लिए प्रधानता रखता है। नए वस्त्रों को धारण करने के लिए शुक्रवार सबसे शुभकारक दिन है। शुक्र ग्रह वैभव और भव्यता के कारक हैं। नवीन वस्त्रों को पहनने के लिए शुक्रवार सर्वाेत्तम है। सोमवार चंद्रमा का दिन है। सौम्य है। इस दिन नए वस्त्रों को धारण करना सहजता और सकारात्मकता का भाव बढ़ता है। विचारों में विनम्रता सद्भाव रहता है।
PunjabKesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News