बैंकाक में है ब्रह्मा जी का मंदिर, बुरी शक्तियों से बचने के लिए हुआ था निर्माण

Saturday, June 3, 2017 11:12 AM
बैंकाक में है ब्रह्मा जी का मंदिर, बुरी शक्तियों से बचने के लिए हुआ था निर्माण

बैंकाक में ब्रह्मा जी का मंदिर स्थित है। ईरावन तीर्थ के नाम से जाने वाले इस मंद‍िर का न‍िर्माण 1956 में हुआ था। यहां भगवान ब्रह्मा जी की चार मुख वाली सोने की प्रतिमा है। कहा जाता है कि यहां 1950 में एक ईरावन नामक होटल बनाने का काम शुरू किया गया था। जिस दिन से काम की शुरूआत हुई उसी दिन ये यहां कोई न कोई बुरी घटना घटित होने से कार्य में रुकावट आ रही थी। इस दौरान इसके बनाने में लगे क‍ई मजदूरों की मौत भी हो गई। इस जगह पर बुरी शक्‍त‍ियों का वास होने वाली बात लोगों के मन में घर कर गई और होटल का नि‍र्माण कार्य बंद हो गया। बुरी शक्तियों के डर से इस मंदिर में काम करने के लिए कोई भी तैयार नहीं हुआ। 
PunjabKesari
इस समस्या का समाधान निकालने के लिए लोगों ने ताओ महाप्रोम नाम के एक ज्योतिष से इसका उपाय पूछा। उन्होंने वहां पर ब्रह्मा जी के मंदिर का निर्माण करवाने के लिए कहा। उसके बाद होटल से कुछ दूरी पर भगवान ब्रह्मा के मंदिर का निर्माण किया गया। जिसके बाद होटल का निर्माण कार्य भी बिना किसी रुकावट से पूर्ण हो गया। 
PunjabKesari
कहा जाता है कि भगवान ब्रह्मा की चार मुख वाली प्रतिमा का निर्माण जिटर पिंकवित नामक कलाकर ने किया था। इस मूर्ति का निर्माण प्लास्टर ऑफ पेरिस पर सोने का पानी चढ़ा कर किया गया था। कहा जाता है इस प्रतिमा की स्थापना 9 नवम्बर 1956 में की गई थी।
PunjabKesari
सबसे खास बात तो यह है क‍ि यहां पर ब्रह्मा जी को ताओ महाप्रोम के नाम से भी जाना जाता है। ताओ महाप्रोम ने ही लोगों तो यहां ब्रह्मा जी के मंदिर का निर्माण करने की सलाह दी थी इसलिए उन्हें ब्रह्मा जी का स्वरूप मानकर उनकी पूजा की जाती है। इस मंदिर को ईरावन तीर्थ के नाम से जाना जाता है। इस मंदिर में बैंकाक अौर अन्य स्थानों के लोग अपनी परेशानियों और बुरी शक्तियों से बचने के ल‍िए दर्शन व पूजन हेतु आते हैं। 




विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !