विवादित भाषण देने वाले शरजील इमाम से शाहीन बाग ने किया किनारा

2020-01-26T20:23:03.23

नेशनल डेस्कः विवादित भाषण के बाद सुर्खियों में आए शरजील इमाम पर दिल्ली पुलिस ने देशद्रोह का मामला दर्ज किया है। वहीं, शाहीन बाग के विरोध प्रदर्शन से जुड़े लोगों ने कहा कि उनका कोई लीडर नहीं है और शरजील से उनका कोई संबंध नहीं है। बयान में कहा गया है कि शरजील के बयान से हमारा कोई संबंध नहीं है। शाहीन बाग के विरोध के लिए कोई ऑर्गनाइजिंग कमेटी नहीं है और न ही कोई लीडर है।

बयान में यह भी कहा गया कि विवादित भाषण शाहीन बाग में नहीं दिया गया है। यह प्रदर्शन महिलाएं कर रही हैं और शरजील का इससे कोई लेना देना नहीं है। 26 जनवरी को शाहीन बाग के प्रोटेस्ट का 43वां दिन है। यहीं बड़ी संख्या में महिलाएं लगातार प्रदर्शन कर रही हैं। गणतंत्र दिवस पर बड़ी संख्या में लोग यहां इकट्ठे हुए थे और तिरंगा भी फहराया गया।

शरजील के बारे में पुलिस ने बताया कि वह बिहार के रहने वाले हैं। वायरल विडियो में देखा जा सकता है कि सीएए  और एनआरसी का विरोध करते-करते वह पूर्वोत्तर को भारत से अलग करने की बात करने लगे थे। पुलिस ने बताया, 'वह पहले जामिया मिल्लिया इस्लामिया में इसी तरह का भाषण दे चुके हैं। उनके भाषण सांप्रदायिक सौहार्द को बिगाड़ने वाले हैं।'

वायरल विडियो में शरजिल कह रहा था, 'असम को भारत के बाकी हिस्से से काट देना चाहिए। लोगों को कहना चाहिए कि बंगाल में हिंदू और मुसलमानों को मारा जा रहा है और उन्हें डिटेंशन सेटर में रखा जा रहा है। 5 लाख लोगों को जुटाया जा सकता है और कुछ महीनों के लिए असम को भारत से अलग किया जा सकता है।

इमाम के खिलाफ आईपीसी की धारा 124A,153 A और 505 के तहत केस दर्ज किया गया है। अलीगढ़ और असम मे भी शरजील के खिलाफ अलग-अलग धाराओं में केस दर्ज किए गए हैं।


Yaspal

Related News