कारगिल विजय दिवस: युद्ध की कुछ ऐसी अनदेखी तस्वीरें जिसे देखकर आपको सैनिकों पर होगा गर्व

2021-07-26T12:52:32.247

नेशनल डेस्क: आज कारगिल विजय दिवस है जिसे हर साल 26 जुलाई को उन शहीदों की याद में मनाया जाता है, जिन्होंने कारगिल युद्ध में देश के लिए लड़ते हुए अपने प्राणों का बलिदान दे दिया था। 60 दिन तक चले कारगिल युद्ध  को हर साल विजय दिवस के तौर पर मनाया जाता है।

PunjabKesari

करीब 18 हजार फीट की ऊंचाई पर 20 साल पहले 26 जुलाई 1999 को हुए कारगिल युद्ध भारतीय सेना के साहस और जांबाजी का ऐसा उदाहरण है जिस पर हर देशवासी को गर्व होना चाहिए।  इस मौके पर हम कारगिल युद्ध की ऐसी अनदेखी तस्वीरें आपके लिए लेकर आए है, जिन्हें देखकर आप भारतीय सेना पर गर्व करेंगे।

PunjabKesari

साल 1999 में मई का महीना चल रहा था जब भारतीय सेना को सूचना मिली कि पाकिस्तानी सैनिकों और कश्मीरी आतंकियों को कारगिल की चोटी पर देखा गया है। पाकिस्तानियों का भारतीय सीमा में घुसना कोई छोटी बात नहीं थी वह भारत की जमीन पर कब्जा करने के लिए आगे बढ़ रहे थे। 

PunjabKesari

तब शुरु हुआ करगिल युद्ध। कारगिल विजय दिवस को आज पूरे 20 साल हो गए हैं। हर भारतीय के लिए 26 जुलाई गर्व का दिन है। इस दिन न सिर्फ भारतीय सेना पाकिस्तानी सैनिकों को करगिल की पहाडिय़ों से वापस खदेड़ दिया था, बल्कि यह भी साबित किया कि भारत की तरफ आंख उठाने वाले को गंभीर अंजाम भुगतने पड़ सकते हैं।

PunjabKesari

8 मई 1999 से शुरू हुआ कारगिल युद्ध 26 जुलाई को खत्म हुआ था। 60 दिन चले इस युद्ध में भारत ने अपने कई वीर सपूत गवाए लेकिन जवानों ने भारत माता का शीश झुकने नहीं दिया। 

PunjabKesari

इस ऑप्रेशन में पाकिस्तान घुटने टेकने को मजबूर हो गया था। पाक सेना ने अपने 5000 जवानों को कारगिल पर चढ़ाई करने के लिए भेजा था, पाकिस्तान 1998 से इस युद्ध की तैयारी कर रहा था और अचानक ही भारत पर हमला करना चाहता था लेकिन भारतीय जवानों के अदम्य साहस और वीरत के सामने पाकिस्तान के यह घुसपैठिए अधिक दिनों तक नहीं टिक पाए।

PunjabKesari


हमारे सैनिकों के अद्वितीय साहस और बलिदान से कारगिल युद्ध में हमने विजय पाई और इसी कारण इसे ऑपरेशन विजय का नाम दिया गया। हमारे युवा अधिकारियों और जवानों द्वारा प्रदर्शित अदम्य साहस और सर्वोच्च बलिदान की कहानियां हमारे दिमाग में हमेशा के लिए अंकित हैं। 

PunjabKesari

26 जुलाई 1999 को युद्ध के अंत की औपचारिक घोषणा की गई और इस दिन को कारगिल विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। ज्ञात रहे कि 16 दिसंबर वास्तविक विजय दिवस, 1971 के युद्ध में पाकिस्तानी सेना पर भारतीय विजय का प्रतीक है। अब जब कि युद्ध को समाप्त हुए दो दशक दो दशक पूरे हो चुके हैं, जीत का जश्न मनाने और वीर पुरुषों के बलिदानों का सम्मान करने के अलावा, इससे सीखे गए सबक की समीक्षा करना भी उतना ही महत्वपूर्ण है।

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Recommended News