Muni Shri Tarun Sagar: किसी के ‘गुजर’ जाने से किसी का ‘गुजारा’ नहीं रुकता

punjabkesari.in Wednesday, May 18, 2022 - 12:33 PM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

भ्रम में मत रहो
मैंने देखा कमरे की छत पर एक छिपकली उल्टी लटकी थी। पूछा, ‘‘क्या बात है, छत से उल्टी क्यों लटकी हो ? नीचे क्यों नहीं आती ?’’

छिपकली बोली, ‘‘इस छत को मैंने संभाल रखा है। अगर मैं यहां से हट गई तो यह नीचे गिर जाएगी।’’

वह छिपकली और कोई नहीं तुम्हीं हो। तुम भी तो इसी भ्रम में जी रहे हो। याद रखो किसी के ‘गुजर’ जाने से किसी का ‘गुजारा’ नहीं रुकता।

PunjabKesari Muni Shri Tarun Sagar

तो फिर जीवन भर आराम
यदि आप विद्यार्थी हैं तो मेरी एक नसीहत ध्यान में रखिए। दसवीं और बारहवीं कक्षा के वर्षों में सोइए मत। रात-दिन पढ़िए क्योंकि ये ही दो वर्ष हैं जहां से करियर बनता है।

यदि ये दो वर्ष सोने में निकाल दिए तो फिर जिंदगी भर जागना ही जागना है। कारण कि मजदूरी करके जीवन गुजारना होगा और इन वर्षों में जागकर कठोर मेहनत करके अध्ययन में सफलता पा ली तो फिर जीवन भर आराम से सोना ही सोना है क्योंकि किसी अच्छे पद पर तुम्हारी नियुक्ति होगी व जिंदगी मजे से कट रही होगी।

PunjabKesari Muni Shri Tarun Sagar
बड़ा जटिल सवाल है
एक मूर्ख ने दूसरे मूर्ख से कहा, ‘‘अगर तुम यह बता दो कि मेरी झोली में क्या है तो सारे अंडे तुम्हारे और अगर यह बता दो कि गिनती में ये कितने हैं तो आठ के आठ अंडे तुम्हारे और अगर तुमने यह भी बता दिया कि ये अंडे किस जानवर के हैं, तो मुर्गी भी तुम्हारी।’’

दूसरा मूर्ख सोच में डूब गया और थोड़ी देर बाद बोला, ‘‘यार, मुझे कुछ संकेत तो दे। यह तो बड़ा ही जटिल सवाल है।’’

हमारी जिंदगी के हर सवाल के जवाब भी हमारी जिंदगी में छिपे हैं फिर भी हम समझ कहां पाते हैं।

PunjabKesari Muni Shri Tarun Sagar


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Related News

Recommended News