Ganesh Utsav 2021: मैनेजमैंट गुरु ‘गणेश जी’ का हर अंग विशेष गुणों का परिचायक है

2021-09-15T11:10:53.783

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Ganesh Utsav 2021: श्री गणेश भगवान को शुभता और नई शुरूआत का देवता माना जाता है। यही वजह है कि सबसे पहले उनकी पूजा की जाती है। मान्यता है कि उनका आशीर्वाद सभी बाधाओं से मुक्त करता है और विजयी होने में मार्गदर्शन करता है। ‘गणेश’ या ‘गणनायक’ नाम का अर्थ है गणों का नेता (नायक) या भगवान (ईश)। श्री गणेश की विनम्रता और ग्रहणशीलता ही उन्हें ‘प्रथम पूज्य’ बनाती है। कहानियों में उनका चित्रण उन विशेषताओं को उजागर करता है जो उन्हें एक महान देवता और लीडर भी बनाती हैं, अर्थात वह एक तरह से मैनेजमैंट गुरु भी हैं। 

PunjabKesari Ganesh Utsav

Ganesh ji body parts meaning: गणेशोत्सव सिर्फ श्री गणेश के गुणों का उत्सव नहीं बल्कि उनकी विशेषताओं को प्रतिबिंबित करने का भी एक अवसर है, जो एक बेहतर प्रबंधक बनने के लिए बेहद प्रभावी सिद्ध हो सकता है।

Symbolic description of Lord Ganesha: उनकी बुद्धिमत्ता की असंख्य किंवदंतियां विभिन्न धर्मग्रंथ और लोक कथाओं में वर्णित हैं जो बताती हैं कि उन्होंने हमेशा किस प्रकार कठिन परिस्थितियों को भी प्रभावी ढंग से प्रबंधित किया और अपनी बुद्धि, ज्ञान और संतुलित आचरण के साथ समाधान खोजा। 
श्री गणेश न केवल आध्यात्मिक झुकाव वाले बल्कि प्रबंधन विशेषज्ञों को भी प्रेरित करते हैं और सीख देते हैं कि किस प्रकार यानी अस्थिरता, अनिश्चितता, जटिलता और अस्पष्टता की चुनौतियों का सामना अपने जीवन में किया जाए।

PunjabKesari Ganesh Utsav

Ganesh ji body parts meaning हर अंग विशेष गुणों का परिचायक
श्रवण कला 

श्री गणेश जी ‘गजमुख’ यानी हाथी के मुख वाले देवता हैं और इसीलिए उनके बड़े कान हैं। उनके कान बिना किसी अनुमान या पूर्वाग्रह के सभी की प्रार्थनाएं सुनते हैं और उनकी चिंताओं को दूर करते हैं।

मानसिक स्थिरता 
उनका बड़ा सिर जागरूकता, ध्यान, विचारशीलता, मानसिक और भावनात्मक स्थिरता का प्रतीक है।

दृष्टिकोणों के लिए खुलापन 
उनके चार हाथ चार पुरुषार्थ- धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष का प्रतिनिधित्व करते हैं यानी कोई भी निर्णय लेने से पूर्व उसका नैतिकता, अर्थव्यवस्था, भौतिक लाभों के दृष्टिकोण से विश्लेषण करना और साथ-साथ दीर्घकालिक आध्यात्मिक और सामाजिक लाभ पर भी अनुमान लगाना।

बुद्धि और विनम्रता 
चाहे वह अपने माता-पिता के चारों ओर चक्कर लगाना हो या कुबेर को धन के साथ आने वाली जिम्मेदारी का एहसास कराना हो, श्री गणेश ने हर बार अपनी विनम्रता और बुद्धि का अनुकरण किया और बेहतरीन उदाहरण पेश किया है।

PunjabKesari Ganesh Utsav

‘विघ्नहर्ता’ के समान करें संकट का सामना 
विघ्नहर्ता या बाधाओं के निवारक के रूप में भगवान गणेश से हम वर्तमान कोरोना महामारी के व्यवधानों से उत्पन्न चुनौतियों का प्रभावी ढंग से सामना करने की सीख ले सकते हैं।

विश्लेषण 
श्री गणेश अपने हाथों में पर्शु या कुल्हाड़ी पकड़े हुए हैं जो जटिल बाधाओं और समस्याओं का विश्लेषण करने के लिए उपयोगी हैं।

संश्लेषण 
श्री गणेश कार्य पूर्ण करने की योजना के लिए सभी समाधानों को संश्लेषित करने या बांधने के लिए एक पाश रखते हैं।

कार्यान्वयन 
भगवान गणेश का अंकुश योजना के कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक सख्त उपायों या आने वाले उतार-चढ़ाव के महत्व को दर्शाता है।

नवाचार
उनके हाथों में एक गन्ना या इक्षु नवाचार यानी इनोवेशन को दर्शाता है जो एक खराब या नकारात्मक स्थिति को एक मधुर अवसर में बदल सकता है।

लचीलापन 
उनकी सूंड संसाधनों या समय की कमी से निपटने के लिए आवश्यक अनुकूलनशीलता और लचीलेपन का संकेत देती है।

PunjabKesari Ganesh Utsav

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Recommended News