कुंडली दिखाए बिना जानें, कौन से ग्रह चल रहे हैं भारी

Tuesday, June 13, 2017 8:47 AM
कुंडली दिखाए बिना जानें, कौन से ग्रह चल रहे हैं भारी

अधिकतर लोग बच्चे के जन्म लेते ही उसकी कुंडली बनवा कर विद्वान पंडित से उसका भविष्य जानने की इच्छा जाहिर करते हैं। मानो यो न मानो कुंडली प्रत्यक्ष और प्रत्यक्ष रूप से व्यक्ति के संपूर्ण व्यक्तित्व पर अपना प्रभाव डालती है। ग्रहों के शुभ-अशुभ होने से उसकी आदतें व व्यवहार विकसित होते जाते हैं। जिससे उन्हें घातक परिणाम भुगतने पड़ते हैं। जानिए, कौन सी हैं वो गंदी आदतें। साथ में लाल किताब से जुड़े कुछ उपाय भी जानें


शनि- शनि के हावी होने पर व्यक्ति मौजे और जूते गंदे रखता है और उन्हें गंदे ही पहन लेता है। जुबान में कड़वाहट रहती है। कभी भी मीठे बोल नहीं बोलता।
दान- शनिवार को शनि मंदिर में काले उड़द और कड़वा तेल अर्पित करें।

 
मंगल- मंगल की अशुभता से बार-बार क्रोध आता है। क्रोध पर काबू पाने के लिए ध्यान लगाएं।
दान- लाल रंग की वस्तुओं का दान करें। शिवलिंग पर लाल चंदन अर्पित करें।


बुध- बुध प्रतिकुल प्रभाव दे रहा हो तो स्नायुविकार, मानसिक दुरावस्था, अभद्र भाषा, डरावने सपने आना और उत्तेजना उत्पन्न होती है। 
दान- मूंगी, हरे फल, हरी इलायची, कांस्य पत्र, पन्ना, हरी सब्जी, हरा कपड़ा, दक्षिणा सहित दान करें।


बृहस्पति- ज्ञान, बुद्धि अौर विवाह संबंधी समस्याएं गुरू के अशुभ होने से होती हैं। कमाई और खर्चों में संतुलन नहीं रहता। व्यक्ति सफलता के शिखर पर पंहुच नहीं पाता। 
दान- पीले पुष्प, पीले चावल, पीला चंदन, पीली मिठाई, गुड़, मक्के का आटा और चना दाल का दान करें।


शुक्र- ज्योतिष शास्त्रियों के अनुसार जिनका शुक्र कमजोर होता है उन्हें सुंगधित वस्तुओं से घृणा या एलर्जी होती है।
दान- सफेद वस्तुओं का दान करें।

 
चन्द्रमा-
चन्द्रमा खराब होने की स्थिती में व्यक्ति बेवजह पानी बहाता रहता है, कागजों पर डूडलिंग करता है और बेपनाह हानि करता है। 
दान- चावल का दान करें।


राहू- शिष्टाचार कहता है की नहाने के बाद तौलिया धूप में सुखाना चाहिए लेकिन जो लोग ऐसा नहीं करते उनका राहू अशुभ स्थिती में होता है। बार-बार चोट लगना भी राहू के ठीक न होने की तरफ इशारा करता है।
दान- प्रतिदिन सुबह और शाम पक्षियों को सतनाजा और जल डालें। शिवलिंग पर जल अर्पित करें।

 
केतू- गंदे कपड़े पहनना या मैले बिस्तर पर सोना खराब केतू का संकेत है। शयन कक्ष की अव्यवस्था भी केतू की अशुभता दर्शाती है। 
दान- काले कुत्ते को सरसों का तेल लगाकर रोटी खिलाएं।




विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !