दूर करें ग्रहों के दोष, रविवार से लेकर शनिवार तक करना होगा ये काम

Tuesday, December 5, 2017 2:30 PM
दूर करें ग्रहों के दोष, रविवार से लेकर शनिवार तक करना होगा ये काम

ज्योतिष, मैडीकल तथा रत्नों के विशेषज्ञों, ऋषि-मुनियों ने ग्रहों, दोषों के निवारण के अनेक उपाय बताए हैं, जो अनुभव में ठीक सिद्ध हुए हैं। यदि सूर्य कुप्रभाव दे रहा है तो अपने वजन के बराबर गेहूं किसी रविवार को बहती नदी में बहा देना चाहिए अथवा गुड़ बहते पानी में बहा देना हितकर है। सूर्य का कुप्रभाव दूर करने के लिए बेलपत्र की जड़  गुलाबी धागे में रविवार को धारण करना लाभप्रद है।


यदि चंद्र बुरे प्रभाव का हो तो सोमवार को चांदी का दान किया जाए। यदि यह नहीं हो पाता तो सोमवार के दिन खिरनी की जड़ धारण करें।


मंगल मंदा हो और अच्छा फल न दे रहा हो तो मीठी रोटियां जानवरों को खिलाएं। मंगलवार के दिन मीठा भोजन दान करें या बतासा नदी में बहाएं या अनंतमूल की जड़ लाल डोरे में मंगलवार को धारण करें। 


यदि शुक्र अशुभ फल दे रहा हो तो गाय का दान अथवा पशु आहार का दान करें, पशु आहार को नदी में बहाएं या सरपोंखा की जड़ सफेद धागे में शुक्रवार को धारण करें।


यदि बुध मंदा है तो साबुत मूंग बुधवार को नदी या बहते पानी में बहाएं या विधारा की जड़ हरे धागे में बुधवार को धारण करें।


यदि बृहस्पति ग्रह कुफल दे रहा हो तो वीरवार को नाभि या जिह्वा पर केसर लगाएं अथवा केसर का भोजन में सेवन करें अथवा नारंगी या केले की जड़ पीले धागे में वीरवार को धारण करें।


यदि शनि दोष है तो काला उड़द शनिवार को नदी में बहाएं या शनिवार को तेल का दान करें। 


यदि राहू मंदा व दोषमुक्त है तो वीरवार को मूलियां दान करें अथवा शनिवार के दिन कच्चा कोयला नदी में प्रवाहित करें या नीले डोरे में सफेद चंदन बुधवार को धारण करें।

 
केतु के प्रतिकूल होने पर कुत्ते को रोटी दें अथवा अश्वगन्धा की जड़ आसमानी रंग के धागे में वीरवार को धारण करें। 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!