भारत में आने वाली है कोरोना की चौथी लहर! क्या फिर लगेंगी पाबंदियां? जानिए क्या कह रहे एक्सपर्ट

punjabkesari.in Wednesday, Apr 27, 2022 - 02:17 PM (IST)

नेशनल डेस्क: राष्ट्रीय संचारी रोग नियंत्रण कार्यक्रम के सलाहकार डॉ नरेश पुरोहित ने कहा है कि कोरोना महामारी की चौथी लहर ओमिक्रॉन संस्करण से नहीं आएगी जो एक वृद्धिशील परिवर्तन से गुजरता रहता है। यह पूरी तरह से अलग संस्करण से आ सकता है जो अपने आप उभरता है। डेल्टा अल्फा संस्करण से नहीं उभरा और ओमिक्रॉन डेल्टा से नहीं निकला। प्रख्यात महामारी विज्ञानी डॉ पुरोहित ने बुधवार को यहां ‘यूनीवार्ता' को बताया कि एक सप्ताह पहले भारत में कोविड-19 का संक्रमण 90 प्रतिशत (एक दिन में 2,000 का आंकड़ा पार कर) बढ़ गया था। भारत पिछले कुछ हफ्तों से दैनिक कोविड-19 मामलों में वृद्धि दर्ज कर रहा है, जिससे संक्रमण की चौथी लहर के बारे में चिंता बढ़ रही है। 

उन्होंने कहा कि महामारी न केवल जैविक और चिकित्सा है बल्कि आर्थिक और राजनीतिक भी है। महामारी नियंत्रण विशेषज्ञ ने कहा कि यह संभावना नहीं है कि भारत में डेल्टा की तुलना में एक नई कोविड-19 ‘लहर' आएगी, क्योंकि जो वायरस अब संक्रमण पैदा कर रहे हैं, वे मौलिक रूप से ओमिक्रॉन से अलग नहीं हैं, जो पहले से ही देश में बहुत सारे संक्रमणों का कारण बन चुके हैं। उन्होने कहा कि बीए 2 वैरिएंट ओमिक्रॉन की तुलना में 2-20 प्रतिशत अधिक संक्रामक है। स्कूल फिर से खुल गए हैं और बच्चों का टीकाकरण नहीं हुआ है। अधिकांश राज्यों ने महामारी संबंधी जनादेश हटा दिए हैं।

 इन सभी कारणों से संक्रमण में वृद्धि हुई है। उन्होने कहा कि आने वाले दिनों में स्थानीय गतिशीलता के आधार पर अलग-अलग स्थानों पर अलग-अलग समय में छिटपुट वृद्धि दर्ज करने की संभावना है। डॉ पुरोहित ने कहा कि हर बड़ी लहर एक निश्चित प्रकार से जुड़ी हुई है। उन्होंने कहा कि मूल अल्फा संस्करण, डेल्टा और फिर ओमिक्रॉन वेरिएंट में तेज वृद्धि हुई। ओमिक्रॉन भी अत्यंत पारगम्य है। इसके अलावा, अधिकांश लोगों (जो टीकाकरण के लिए पात्र हैं) के पास इस बिंदु पर एक संकर प्रतिरक्षा है - या तो उन्हें आंशिक रूप से या पूरी तरह से टीका लगाया गया है और या संक्रमित हुए है। इसलिए, उनके लिए, खासकर यदि उन्हें सह-रुग्णता नहीं है, तो लक्षण सामान्य फ्लू के समान होने की संभावना है। उन्होंने जोर देकर कहा कि स्वास्थ्य आपात स्थितियों से बचने के लिए भारत को महामारी के कुछ संकेतकों को ट्रैक करना जारी रखना चाहिए। 

उन्होंने कहा,‘‘जनसंख्या में पहले से ही प्रतिरक्षा का भंडार है। हालांकि, भारत को मामलों में असामान्य वृद्धि पर ध्यान देना चाहिए।'' उन्होंने सार्वजनिक स्वास्थ्य निगरानी परीक्षण के लिए स्वास्थ्य अधिकारियों से आग्रह किया, जिसे रोग नियंत्रण केंद्र सार्वजनिक स्वास्थ्य अभ्यास की योजना, कार्यान्वयन और मूल्यांकन के लिए आवश्यक स्वास्थ्य संबंधी डेटा के चल रहे, व्यवस्थित संग्रह, विश्लेषण और व्याख्या के रूप में परिभाषित करता है। उन्होंने कहा कि देश को याद्दच्छिक निगरानी परीक्षण (इन्फ्लूएंजा जैसे लक्षणों वाले याद्दच्छिक जिलों के 5-10 लोग), सिंड्रोमिक निगरानी (मामलों के समूह), और अपशिष्ट जल निगरानी करनी चाहिए, जो इस बात का अच्छा संकेत होगा कि भविष्य में मामले कब बढ़ सकते हैं। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Related News

Recommended News