जब लाल बहादुर शास्त्री ने अपने बच्चों को भूखा रख देश को दिया एक दिन उपवास का सुझाव

10/2/2019 10:31:01 AM

नई दिल्ली: 2 अक्टूबर के दिन का भारत के इतिहास में एक खास महत्व है।  आज पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की भी 116वीं जयंती है। लाल बहादुर शास्त्री एक सीधी, सरल, सच्ची और निर्मल छवि वाले इंसान थे। उनकी ईमानदारी और खुद्दारी की लोग आज भी मिसाल देते हैं।

Navodayatimes

शास्त्री जी से जुड़े ऐसे न जाने कितने किस्से पढ़ने-सुनने को मिल जाएंगे। एक ईमानदार, नेकनीयत और स्वाभिमानी इंसान जो अपनी सादगी और देशभक्ति के दम पर देश का प्रधानमंत्री बना। चलिए आज हम आपको बताते है इस किस्से के बारे में...

Navodayatimes

पंडित ज्वाहर लाल नेहरू की मृत्यु के बाद 9 जून 1964 को लाल बहादुर शास्त्री देश के दूसरे प्रधानमंत्री बने। जब उन्होंने प्रधानमंत्री पद संभाला तो उन्हें बड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। 1965 में उनके आते ही देश गंभीर खाद्य संकट से जूझ रहा था। कई राज्यों में सूखा पड़ा हुआ था।

 

Navodayatimes

पहले अपने बच्चों से करवाया उपवास
उनके बेटे अनिल शास्त्री ने एक इंटरव्यू में खुलासा किया कि एक दिन उन्होंने मेरे मां से कहा कि मैं देखना चाहता दूं कि मेरे बच्चे भूखे रह सकते हैं या नहीं। उन्होंने मां से कहा कि एक दिन खाना ना बनाए। उस वक्त में 14 से 15 साल का था। मेरे दो छोटे भाई भी थे। उस शाम हम तीनों भूखे सोए। जब उन्हें विश्वास हो गया कि उनके बच्चे भूखे रह सकते है तब उन्होंने देश वासियों से कहा कि हफ्ते में एक दिन भोजन ना करे। 

Navodayatimes

जब शास्त्री जी ने प्रधानमंत्री आवास में चलाया हल 
देश ने शास्त्री जी के एक दिन उपवास के नारे को बेहद गंभीरता से लिया। एक बार उन्होंने खुद प्रधानमंत्री आवास पर लॉन में हल चलाया। वो चाहते थे कि देशवासी खाली पड़ी जमीन में अनाज या  सब्जियां जरुर पैदा करें। उस समय शास्त्री जी का बात को देश ने माना। देश ने शास्त्री जी के एक दिन उपवास के नारे को बेहद गंभीरता से लिया। एक बार उन्होंने खुद प्रधानमंत्री आवास पर लॉन में हल चलाया। वो चाहते थे कि देशवासी खाली पड़ी जमीन में अनाज या  सब्जियां जरुर पैदा करें। उस समय शास्त्री जी का बात को देश ने माना। 


Edited By

Anil dev

Related News