जम्मू-कश्मीर में अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों के लिए बनाए नए नियम, हवाई अड्डे पर जांच अनिवार्य

punjabkesari.in Saturday, Dec 04, 2021 - 02:02 PM (IST)

जम्मू  : कोविड-19 के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के सामने आते ही जम्मू-कश्मीर में प्रशासन हरकत में आ गया है। प्रशासन ने जम्मू और कश्मीर घाटी में आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए नए नियम-कानून बनाए हैं। प्रशासन ने श्रीनगर और जम्मू हवाई अड्डों पर ओमिक्रॉन कोविड वायरस, जीनोम सिक्वेंस के लिए यत्रियों की जांच अनिवार्य किया। इसके चलते जम्मू और श्रीनगर हवाई अड्डे पर एयरपोर्ट जम्मू में विदेशों से आने वाले यात्रियों के लिए आर.टी.-पी.सी.आर . टैस्ट की सुविधा शुरू कर दी है।


गौरतलब है कि श्रीनगर और जम्मू एयरपोर्ट पहले पर रैपिड टैस्ट ही किया जा रहा था। इस नई व्यवस्था से यात्रियों पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है।  मिली जानकारी के अनुसार एयरपोर्ट अथॉरिटी के पास सीधे तौर पर विदेशों से आने वालों की जानकारी नहीं होती जिसमें प्रत्येक यात्री से चिकित्सा स्टाफ  पूछताछ कर रहा है। अगर यात्रियों ने पहले टैस्ट करवा लिए हैं तो भी जम्मू में दोबारा टैस्ट लिए जाएंगे। मिली जानकारी के अनुसार श्रीनगर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर रैपिड और आर.टी.-पी.सी.आर दोनों टैस्ट मशीनें उपलब्ध हैं, जिससे दो से ढाई घंटे के बीच रिपोर्ट आ जाती है और यात्री को रिपोर्ट देकर भेज दिया जाता है लेकिन जम्मू एयरपोर्ट पर ऐसी सुविधा नहीं है। सभी विदेशी यात्रियों के पहले आर.टी.-पी.सीआर. टैस्ट लिए जाते हैं, जिसके बाद लैब में भेजा जाता है। लैब से रिपोर्ट के लिए न्यूनतम 24 घंटे का समय लग जाता है जिससे मजबूरन यात्रियों के टस्ट कर उन्हें होम आइसोलेट के लिए भेजा जा रहा है।


जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने विश्वभर में कोविड-19 के नए वैरिएंट बी.1.1.5.2.9 (ओमिक्रॉन) के प्रसार को देखते हुए एक ताजा गाइड लाइन जारी की है। नई गाइड लाइन में विदेशों से आने वाले लोगों के श्रीनगर और जम्मू एयरपोर्ट पर ही आर.टी.-पी.सी.आर. टैस्ट अनिवार्य होंगे। अगर कोई व्यक्ति कोविड पॉजिटिव पाया जाता है तो उस व्यक्ति को क्वारेंटाइन किया जाएगा और स्टैंडर्ड प्रोटोकॉल के तहत इलाज किया जाएगा। संक्रमित व्यक्ति के सैम्पल के नामित किए गए आई.एन.एस.ए.सी.ओ.जी जीनोम सिक्वेंस लैबोरेट्री में जांच के लिए भेजा जाएगा।

 

संक्रमित व्यक्ति के संपर्क के आने वाले लोगों को टे्रस किया जाएगा और उनकी जांच भी की जाएगी। नामित किए गए निगरानी अधिकारी नमित किए गए लैबोरेट्रियों के कोआर्डिनेशन रखेंगे। संक्रमित व्यक्ति को तब तक क्वारंटाइन करना होगा और यह आधिकारिक संगरोध परीक्षण रिपोर्ट आने तक जारी रहेगा। इसके बाद एक सप्ताह के लिए होम क्वाइंटाइन होगा। हालांकि श्रीनगर प्रशासन ने विदेश यात्रा करने वाले विदेशी पर्यटकों और स्थानीय लोगों के लिए 3 विशेष संगरोध केंद्र स्थापित किए हैं। ये सुविधाएं नि:शुल्क होंगी। इसी तरह प्रशासन ने पेड क्वारंटाइन सेंटर भी स्थापित किए हैं जहां चिकित्सा की भी पूरी व्यवस्था की जाएगी।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Monika Jamwal

Related News

Recommended News