तेजी से बदल रही विश्व व्यवस्था, भारत के पास खुद को मजबूत बनाने के इलावा कोई विकल्प नहीं: राजनाथ

punjabkesari.in Friday, Apr 22, 2022 - 04:28 PM (IST)

नेशनल डेस्क: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा कि भारत के पास अपनी रक्षा, शांति और स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए स्वयं को मजबूत बनाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है, क्योंकि विश्व व्यवस्था तेजी से बदल रही है। सिंह ने यह बात यूक्रेन-रूस युद्ध के संदर्भ में कही। सिंह ने डेफकनेक्ट 2.0 के उद्घाटन के अवसर पर कहा कि दुनिया में बहुत सी चीजें हो रही हैं जो भारत को प्रभावित कर रही हैं। डेफकनेक्ट 2.0 रक्षा क्षेत्र में स्वदेशी नवाचार को बढ़ावा देने के लिए स्टार्ट-अप, बड़ी कंपनियों और सशस्त्र बलों के कर्मियों को एकसाथ लाने के लिए एक दिवसीय कार्यक्रम है। सिंह ने कहा, ‘‘जब हम एयरो इंडिया 2021 (21 फरवरी) में मिले थे, तब से अब तक दुनिया इतनी बदल गई है कि इसका हिसाब या आकलन नहीं किया जा सकता है।

हर नया खतरा पिछले की तुलना में अधिक जटिल और चुनौतीपूर्ण लग रहा है।'' उन्होंने कहा, ‘‘हम कोविड-19 के चलते उत्पन्न संकट से पूरी तरह उबर भी नहीं पाए थे कि दुनिया अब यूक्रेन के संघर्ष के मुद्दे का सामना कर रही है।'' उन्होंने कहा, ‘‘समय के साथ जिस तरह से विश्व व्यवस्था बदल रही है, हमारे पास खुद को मजबूत बनाने के अलावा और कोई विकल्प नहीं है।'' मंत्री ने कहा कि इससे पहले भी, दुनिया ने पश्चिम एशिया, अफगानिस्तान और पाकिस्तान में अस्थिरता देखी है। उन्होंने कहा, ‘‘इसके अलावा, दुनिया में बहुत सी चीजें हो रही हैं जो निश्चित रूप से भारत को प्रभावित कर रही हैं। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि हम अपनी रक्षा, शांति और स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए मजबूत बनें।''

उन्होंने कहा, ‘‘हमें खुद को मजबूत करने के लिए अपने कई क्षेत्रों को विकसित करने की जरूरत है। इस संबंध में ‘डिसरप्टिव टेक्नोलॉजी' एक महत्वपूर्ण क्षेत्र है।'' सिंह ने रक्षा प्रौद्योगिकी मामले की उपयोगिता और विशिष्टता को समान रूप से रेखांकित किया। उन्होंने कहा, ‘‘रक्षा तकनीक हमारे लिए कितनी उपयोगी है, यह निश्चित रूप से महत्वपूर्ण है, लेकिन यह भी जरूरी है कि रक्षा तकनीक हमारे पास ही हो।'' डेफकनेक्ट 2.0 नवोन्मेषकों को अपनी क्षमताओं, उत्पादों और अत्याधुनिक तकनीकों का प्रदर्शन उद्योगपतियों के समक्ष करने का अवसर प्रदान करता है। स्टार्ट-अप के लिये यह अवसर होता है कि वे निवेश हासिल करने के लिए इसका इस्तेमाल करें।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

rajesh kumar

Related News

Recommended News