'देखो अपना देश' के तहत दिल्ली-वाराणसी के बीच चलेगी ‘दिव्य काशी यात्रा' ट्रेन, जानिए किराया और अन्य पूरी डिटेल

punjabkesari.in Sunday, Jan 23, 2022 - 12:30 PM (IST)

नेशनल डेस्क: उत्तर प्रदेश के वाराणसी में पर्यटकों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर ‘‘दिव्य काशी यात्रा'' ट्रेन का संचालन शुरू किया जाएगा। भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम (IRCTC) के अधिकारियों ने यह जानकारी दी। गुजरात के सोमनाथ में नए सर्किट हाउस के उद्घाटन के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को बताया था कि दिव्य काशी यात्रा के लिए एक विशेष ट्रेन दिल्ली से शुरू होने जा रही है। IRCTC के जनसंपर्क अधिकारी आनंद झा ने बताया कि प्रधानमंत्री ने इस ट्रेन को चलाए जाने के संबंध में शुक्रवार को घोषणा की थी। 

 

जानिए कितना होगा किराया
वाराणसी में पर्यटकों की बढ़ती मांग के मद्देनजर ‘दिव्य काशी यात्रा' ट्रेन चलाई जा रही है, जिसका वाणिज्यिक संचालन दिल्ली से काशी के लिए 22 मार्च से होगा। उन्होंने बताया कि ट्रेन में प्रथम और द्वितीय वातानुकूलित श्रेणी में कुल 156 सीट होंगी। IRCTC के जनसंपर्क अधिकारी ने बताया कि IRCTC यात्रियों के लिए चार रात और पांच दिन का यात्रा पैकेज उपलब्ध कराएगा, जिसमें खाना, रहना और वाराणसी के विभिन्न प्रमुख स्थलों पर घूमना शामिल है। 156 यात्रियों की क्षमता वाली इस स्पेशल ट्रेन में फर्स्ट एसी का किराया 29950 रुपए प्रति व्यक्ति रखा गया है, जबकि सेकंड एसी के लिए 24500 रुपए प्रति व्यक्ति का किराया निर्धारित किया गया है। इस दिव्य काशी यात्रा में काशी विश्वनाथ मंदिर विश्वनाथ कॉरिडोर सहित बनारस के तमाम धार्मिक स्थलों का दर्शन और भ्रमण कराया जाएगा। दिव्य काशी यात्रा के तहत श्रद्धालुओं को वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर, काल भैरव मंदिर, संकट मोचन मंदिर, दुर्गा माता मंदिर, भारत माता मंदिर, तुलसी मानस मंदिर आदि मंदिरों में दर्शन पूजन और भ्रमण कराया जाएगा।

 

यात्रा का पूरा शेड्यूल 
22 मार्च को दोपहर 3:00 बजे दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन पर स्वागत समारोह का आयोजन होगा, इसके बाद 4:00 बजे यह ट्रेन काशी के लिए रवाना हो जाएगी। दूसरे दिन 23 मार्च की सुबह यह ट्रेन वाराणसी पहुंचेगी जहां से यात्रियों को सारनाथ ले जाया जाएगा । सारनाथ का भ्रमण करने के बाद दोपहर में होटल में आराम के बाद शाम को पर्यटकों को ट्रेड फैसिलिटेशन सेंटर का भ्रमण कराया जाएगा। 24 मार्च की सुबह काल भैरव का दर्शन कराने के बाद काशी विश्वनाथ का दर्शन और नौका विहार कराया जाएगा । इसके बाद शाम को दशाश्वमेध घाट पर विश्व प्रसिद्ध आरती दिखाई जाएगी। 25 मार्च को सुबह संकट मोचन मंदिर तुलसी मानस मंदिर दुर्गा माता मंदिर और भारत माता मंदिर के दर्शन और भ्रमण कराया जाएंगे, इसके बाद शाम को सभी पर्यटकों को वाराणसी से दिल्ली वापस ले आया जाएगा। यह ट्रेन 26 मार्च की सुबह दिल्ली वापस पहुंचेगी। अधिक जानकारी के लिए IRCTC की वेबसाइट www.irctctourism.com पर विजिट किया जा सकता है। पर्यटक पहले आओ पहले पाओ के आधार पर ऑनलाइन टिकट भी बुक कर सकते हैं।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Seema Sharma

Related News

Recommended News