त्रिपुरा उपचुनाव में बीजेपी का 4 में से 3 सीटों पर कब्जा, मुख्यमंत्री माणिक साहा भी जीते

punjabkesari.in Sunday, Jun 26, 2022 - 02:50 PM (IST)

नेशनल डेस्क: त्रिपुरा में चार विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में भाजपा को तीन और कांग्रेस को एक सीट पर जीत मिली है। त्रिपुरा की सीएम व बीजेपी के उम्मीदवार माणिक साहा ने टाउन बारदोवली सीट पर हुए उपचुनाव में 6,104 वोटों के अंतर से जीत हासिल की है। निर्वाचन आयोग ने यह जानकारी दी है। माणिक साहा को 17,181 मत मिले, जो क्षेत्र में पड़े कुल वोटों का 51.63 प्रतिशत है। वहीं, कांग्रेस के आशीष कुमार साहा को 11,077 वोट हासिल हुए, जो कुल वोटों का 33.29 प्रतिशत है। वाम मोर्चे की तरफ से फॉरवर्ड ब्लॉक के उम्मीदवार रघुनाथ सरकार तीसरे स्थान पर रहे। उन्होंने 3,376 (10.15 फीसदी) वोट हासिल किए।

यह भाजपा कार्यकर्ताओं की जीत- मुख्यमंत्री माणिक साहा
मुख्यमंत्री ने पत्रकारों से कहा, ''जिन लोगों ने मुझे वोट दिया, मैं उन्हें धन्यवाद देता हूं। यह भाजपा कार्यकर्ताओं की जीत है। मुझे उम्मीद थी कि अंतर थोड़ा अधिक होगा। हालांकि, परिणाम माकपा और कांग्रेस के बीच मिलीभगत को साबित करते हैं। हम भविष्य में भी इसी तरह काम करेंगे। लोगों ने मिलीभगत को नकार दिया है।'' उन्होंने कहा, ''हमने कई सालों तक राज्य में चुनाव के बाद हिंसा देखी है, इसलिए हमने लोगों से ऐसी चीजों से दूर रहने का आग्रह किया है। लोगों का विश्वास सबसे महत्वपूर्ण है, और हम चाहेंगे कि उन्हें किसी भी समस्या का सामना न करना पड़े।

माणिक साहा को यह उपचुनाव जीतना जरूरी था
मैं विपक्षी दलों से भी शांति बनाए रखने का अनुरोध करता हूं।'' तत्कालीन मुख्यमंत्री बिप्लब देब के अचानक इस्तीफा देने के बाद राज्यसभा सांसद माणिक साहा को पिछले महीने राज्य का मुख्यमंत्री नियुक्त किया गया था। मुख्यमंत्री बने रहने के लिए उन्हें यह उपचुनाव जीतना जरूरी था। नियमानुसार विधानसभा के लिए चुने जाने के बाद अब वह सांसद के रूप में इस्तीफा दे देंगे। आशीष कुमार साहा के भाजपा विधायक के रूप में इस्तीफा देने और फरवरी में कांग्रेस में शामिल होने के बाद टाउन बारदोवली सीट पर उपचुनाव हुआ था। 

भाजपा खेमे में उत्साह,  कांग्रेस को महज एक सीट
इस जीत का बाद जहां भाजपा खेमे में उत्साह है, वहीं कांग्रेस को महज एक सीट से संतोष करना पड़ा है। अगरतला सीट पर कांग्रेस के उम्मीदवार सुदीप रॉय बर्मन को 3,163 मतों के अंतर से जीत मिली है। उन्हें 17,241 वोट मिले, जो डाले गए कुल वोट का 43.46 प्रतिशत हैं। उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा उम्मीदवार अशोक सिन्हा को 14,268 (35.57 प्रतिशत) मत मिले। इस जीत के साथ ही रॉय बर्मन विधानसभा में कांग्रेस के एकमात्र विधायक बन गए हैं। साल 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को एक भी सीट पर जीत नहीं मिली थी। 

 

 



 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

rajesh kumar

Related News

Recommended News