यूरोपीय संघ का अफगानिस्तान को लेकर कड़ा रुख, कहा-तालिबान सत्ता में आए तो नहीं देंगे मान्यता

2021-08-03T12:25:49.357

इंटरनेशनल डेस्कः अफगानिस्तान में तालिबान नेताओं के चीन से रिश्ते बढ़ाने के बीच यूरोपीय संघ (EU) ने अपना सख्त रुख स्पष्ट किया है। ईयू ने कहा है कि अफगानिस्तान में यदि तालिबान सत्ता पाने में कामयाब होता है तब भी वह उसे किसी भी सूरत में मान्यता नहीं देगा। अफगानिस्तान के लिए ईयू प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख थॉमस निकोलसन ने तालिबान के बढ़ते कदमों पर चिंता जताते हुए यह बात कही।

 

उन्होंने कहा, हम यथासंभव अफगानिस्तान के विकास में योगदान देते हुए सियासी तौर पर मौजूदा हालात का समाधान निकालने में भी शामिल होंगे लेकिन यदि तालिबान 1990 की तरह ही इस्लामी अमीरात की योजना देता है तो इसे मंजूर नहीं किया जाएगा। हालांकि उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान पर वार्ता के लिए तालिबान की तरफ से ईयू को कोई प्रस्ताव नहीं मिला है।

 

उधर, अफगानिस्तान रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, अफगान बलों ने गजनी, कंधार, हेरात, फराह, जोज्जान, बल्ख, समांगन, हेलमंद, तखर, कुंदुज, बगलान, काबुल और कपिसा में अभियान चलाकर शनिवार से अब तक 300 के आसपास आतंकी ढेर किए हैं। जबकि तालिबान ने 10 सीमा क्रॉसिंग प्रांतों पर भी कब्जा कर लिया है। बता दें कि  अफगान सेना ने पिछले 48 घंटों में 300 के करीब आतंकी मार गिराए हैं।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tanuja

Recommended News