विवाह पंचमी 2021: जानें इस दिन का शुभ मुहूर्त व महत्व

punjabkesari.in Wednesday, Dec 08, 2021 - 08:04 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
आज 08 दिसंबर दिन बुधवार यानी मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को विवाह पंचमी का पर्व मनाया जाएगा। सनातन धर्म में इस दिन को बहुत महत्व प्राप्त है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन श्री राम और माता सीता का विवाह संपन्न हुआ था। जिस कारण इस दिन को विवाह पंचमी के रूप में देश के विभिन्न हिस्सों में ये पर्व मनाया जाने लगा। बता दें मुख्य रूप से ये त्यौहार भारत और नेपाल में बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार विवाह पंचमी के दिन श्री राम सीता की विधिवत पूजा करने से दाम्पत्य जीवन की परेशानियां खत्म होती हैं तथा दंपत्ति जीवन में मधुरता बढ़ती है।

यहां जानें इस दिन का शुभ मुहूर्त-
मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष तिथि आरंभ : 07 दिसंबर रात 11.40 मिनट से।
मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष तिथि समाप्त : 08 दिसंबर रात 09.25 मिनट तक।

महत्व
यूं तो भारत के लगभग सभी क्षेत्रों में राम और सीता के विभिन्न मंदिरों में विवाह पंचमी का त्योहार मनाया जाता है परंतु विवाह पंचमी का सबसे पवित्र और भव्य उत्सव अयोध्या यानि भगवान श्री राम के जन्मस्थान और जनकपुर अर्थात नेपाल में स्थिति देवी सीता के जन्म स्थान में आयोजित किया जाता है।

मान्यताओं के अनुसार इस दिन प्रभु श्रीराम और माता जनक नंदिनी की पूजा करने से सारी बाधाएं दूर होती हैं। कुंवारी लड़कियों को माता सीता की पूजा करनी चाहिए। इससे उन्हें मनचाहा वर मिलता है। इस दिन घर में पूजा-पाठ और हवन करने से दांपत्य जीवन में सुख आता है, तथा परिवार में शांति व प्रेम की वृद्धि होती है।

यहां जानें कब से शुरू होगा खरमास
पंचांग के अनुसार इस वर्ष खरमास का महीना 14 दिसंबर से शुरू होगा और 14 जनवरी 2022 को समाप्त होगा। शास्त्रों के अनुसार इस अवधि में विवाह, गृह प्रवेश, मुंडन जैसे शुभ कार्य नहीं होंगे। मान्यता है कि इस माह में सूर्य देव की गति धीमी हो जाती है, जिसके चलने कोई भी शुभ काम सफल नहीं होते।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News