पूजा-पाठ के इन नियमों को अपनाना है जरूरी वरना...

2020-01-18T11:08:56.54

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
सनातन धर्म में पूजा-पाठ का बहुत अधिक महत्व बताया गया है। कहते हैं कि हिंदू धर्म में सुबह व शाम की पूजा का खास महत्व है। हर व्यक्ति अरनी इच्छा को पूर्ण करने के लिए भगवान से प्रार्थना व उनकी आराधना करता है। जैसे शक्ति और भय से मुक्ति के लिए भक्त हनुमान जी की आराधना करते हैं तो वहीं सुखी वैवाहिक जीवन के लिए शिव-पार्वती की पूजा की जाती है। इसके साथ ही परिवार की सुख-शांति के लिए भगवान गणेश की पूजा की जाती है। 
PunjabKesari
वही हमारी सनातन परंपरा के मुताबिक हर काम के लिए एक पूजा व उसका समय निश्चित किया गया है। हर एक पूजा-पाठ के अपने नियम होते हैं और उन्हीं को ध्यान में रखकर भगवान की आराधना की जाती है। कहते हैं कि अगर उनमें से बताए गए नियमों का पालन न किया जाए तो व्यक्ति की पूजा अधूरी मानी जाती है और न ही उसे उसके द्वारा की गई पूजा का फल मिलता है। सुखी और आर्थिक रूप से संपन्न जीवन की कामना के लिए की गई पूजा में इन चीजों का ध्यान अवश्य रखना चाहिए। ऐसा करने से आपका जीवन सुखमय होगा और आपकी अच्छे दिन की कामना पूरी होगी।
Follow us on Twitter
पूर्व दिशा या ईशान कोण में एक चौकी रखें। चौकी पर लाल या गुलाबी वस्त्र बिछाएं। पहले गणेश जी की मूर्ति रखें, फिर उनके दाहिने और लक्ष्मी जी को रखें।
PunjabKesari
खुद के लिए एक आसान बिछाएं और बैठें, अपने चारों और जल छिड़क लें। इसके बाद संकल्प लेकर पूजा आरम्भ करें। 

एक मुखी शुद्ध घी का दीपक जलाएं, फिर मां लक्ष्मी और भगवान गणेश को फूल और मिठाइयां अर्पित करें।
Follow us on Instagram
इसके बाद पहले भगवान गणेश फिर मां लक्ष्मी के मन्त्रों का जाप करें। अंत में आरती करें और शंख ध्वनि करें।


Lata

Related News