क्या है धर्म का असली सार, जानने के लिए पढ़े ये प्ररेक प्रसंग

2020-09-16T11:26:09.323

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
गुरुकुल के छात्रों का अध्ययन पूरा हो चुका था, वे धर्मशास्त्रों तथा व्याकरण आदि में पारंगत हो चुके थे। अगले दिन गुरुदेव उन्हें आशीर्वाद देकर आश्रम से विदा करने वाले थे।
PunjabKesari, Motivational Concept, Inspirational Concept, Motivational Theme, Motivational Story, Religious Story,Punjab Kesari, Dharm, Essence of religion, Religious theme
प्रात:काल दो छात्र गुरुदेव के साथ गंगा स्नान के लिए गए। स्नान के बाद दोनों पूजा करने बैठ गए। अचानक उन्हें एक बालक की आवाज सुनाई दी, ‘‘बचाओ-बचाओ, मैं डूब रहा हूं।’’

आवाज सुनते ही एक छात्र पूजा बीच में छोड़ कर भागा तथा गंगा में कूद पड़ा। देखते ही देखते वह बालक को जल में से निकाल लाया, उसे उलटा लिटा कर पेट में भरा पानी निकाल दिया। बालक के प्राण बच गए।

गुरु जी ने देखा कि दूसरा शिष्य भी आंखें बंद किए पूजा कर रहा है। पूजा से निवृत्त हो जाने पर उन्होंने पूछा, ‘‘वत्स, क्या तुमने डूबतेबालक की करुण पुकार नहीं सुनी थी?’’
PunjabKesari, Motivational Concept, Inspirational Concept, Motivational Theme, Motivational Story, Religious Story,Punjab Kesari, Dharm, Essence of religion, Religious theme
शिष्य ने उत्तर दिया, ‘‘गुरुदेव पुकार तो सुनी थी किंतु पूजा बीच में कैसे छोड़ सकता था? छोड़ता तो पूजा छोड़ने के पाप का भागी हो जाता।’’

गुरुदेव बोले, ‘‘तुम भले ही व्याकरण में पारंगत हो गए हो, तुम्हें अनेक धर्मशास्त्र कंठस्थ हैं किंतु धर्म का सार नहीं समझ पाए हो। धर्म शास्त्रों का पालन इस शिष्य ने किया है जो संकटग्रस्त बालक की करुण पुकार को सुनकर द्रवित हो गया और अपना जीवन संकट में डालकर भी एक बालक के प्राण बचाने को तत्पर हुआ।’’  —शिव कुमार गोयल
PunjabKesari, Motivational Concept, Inspirational Concept, Motivational Theme, Motivational Story, Religious Story,Punjab Kesari, Dharm, Essence of religion, Religious theme


Jyoti

Recommended News