Masik Shivratri 2021: साल की पहली मासिक शिवरात्रि पर पाएं भोले बाबा का आशीर्वाद

2021-01-11T12:15:10.93

हिंदू पंचाग के अनुसार हर महीने कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है, जोकि आज मनाई जाएगी। जानकारी के लिए बता दें कि मासिक शिवरात्रि हर महीने, जबकि महाशिवरात्रि साल में एक बार मनाई जाती है। मासिक त्योहारों में शिवरात्रि के व्रत का बहुत महत्व होता है। इस दिन भगवान शिव की आराधना करके हर व्यक्ति महावरदान की प्राप्ति कर सकता है। ये 2021 की पहली मासिक शिवरात्रि है और आज के दिन पर ग्रहों का शुभ संयोग भी बन रहा है तो आइए जानते हैं विशेष संयोग के बारे में-
PunjabKesari
इस बार मासिक शिवरात्रि सोमवार के दिन ही पड़ी है। यानि कि आज सोमवार का दिन शिवजी की आराधना करने का दिन माना जाता है। कहा जाता है कि आज के दिन शिवरात्रि का व्रत रखने वालों की सारी मनोकामनाएं पूरी हो सकती हैं। मासिक शिवरात्रि और इस विशेष संयोग की वजह से जो भी भक्त सच्चे मन से भगवान शिव की आराधना करेंगे, उन्हें विशेष पुण्य प्राप्त होगा और साथ ही उनकी मनोकामना भी पूर्ण होगी। चलिए आगे जानते हैं मासिक शिवरात्रि के महत्व के बारे में-
PunjabKesari
माना जाता है कि मासिक शिवरात्रि का व्रत बहुत प्रभावशाली होता है। इस दिन उपवास रखने और भगवान शिव की सच्चे मन से आराधना करने से सारी मनोमनाएं पूरी हो जाती हैं। ये व्रत रखने और पूजा करने वाले लोगों की सारी समस्याएं दूर होती हैं। मान्यता है कि मासिक शिवरात्रि का व्रत करने से मनोवांछित वर की प्राप्ति होती है और विवाह में आ रही रुकावटें दूर होती हैं। माना जाता है कि मासिक शिवरात्रि के दिन शिव चालीसा का बहुत महत्व होता है। शिव चालीसा के सरल शब्दों से भगवान शिव को प्रसन्न किया जा सकता है। शिवरात्रि की पूजा विधि के बारे में-
PunjabKesari
मासिक शिवरात्रि के दिन भगवान शिव के साथ माता पार्वती और नंदी की भी पूजा का विधान है। इस दिन शिव और माता पार्वती की पूजा करने से दोनों का आर्शीवाद प्राप्त होगा।

मासिक शिवरात्रि पर सुबह स्नान के बाद पूजा आरंभ करनी चाहिए। इस दिन भगवान शिव की प्रिय चीजों का भोग लगाएं। शिव मंत्र और शिव आरती का पाठ करना चाहिए। इसके साथ ही शिव पुराण, शिव स्तुति, शिवाष्टक, शिव चालीसा और शिव श्लोक का पाठ भी शुभ फल प्रदान करता है।


Content Writer

Lata

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News