2020 में शनि को करना है प्रसन्न तो उन्हें Gift करें ये सामान

2019-12-28T10:32:46.207

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

शनि की ढैय्या अथवा साढ़ेसाती ये शब्द एक बार तो किसी भी जातक के विवेक को हिला देने के लिए पर्याप्त हैं। जनमानस में सदियों से ही शनि का आतंक रहा है। उनके लिए यह भीषण भय एवं साधन संत्रास को उत्पन्न करने वाली स्थिति हो जाती है। वास्तव में ऐसा नहीं है, शनि के अशुभ प्रभाव से जीवन में बदलाव तो आता है लेकिन ये गुड लक लाएगा यै बैड लक ये आपकी जन्म कुंडली तय करती है। आप भी शनि संबंधित समस्याओं से परेशान हैं तो...

PunjabKesari Connection of shani dev and 2020

2020 में शनि को गिफ्ट करें ये सामान
घोड़े की नाल या नाव की कील से बना हुआ लोहे का छल्ला।

शनि मंदिर में सरसों का तेल।

शनिवार की सुबह लोहे के पात्र में सरसों का तेल डालकर उसमें एक रूपये का सिक्का डाल कर अपना चेहरा देखें और किसी गरीब या मजदूर व्यक्ति को दे दें। संभव न हो तो पीपल के पेड़ के नीचे रख दें।

शनि के निमित्त शनिवार को पीपल के नीचे सरसों के तेल का दीप अर्पित करें।

काली चीजें, काले कपड़े, काले जूते, लोहे के बर्तन, काली उड़द की दाल और काले तिल भी शनि देव को बहुत भाते हैं। आप इन्हें शनि मंदिर या किसी निर्धन व्यक्ति को दान करें।

PunjabKesari Connection of shani dev and 2020

शनिवार के दिन घर में करें ये काम
सुबह कीकर की दातुन करें। स्नान अमलवेतस या इसके पत्ते मिश्रित जल से करना चाहिए। भोजन में उड़द की दाल या इससे बने पदार्थ खाएं। इस दिन भोजन में कोई फल अथवा विशेषकर केले का प्रयोग करना उचित है। ये ही पदार्थ भोजन से पूर्व किसी भिक्षुक अथवा निर्धन व्यक्ति को यथाशक्ति देकर भोजन करें। भोजन सूर्यास्त के 2 घंटे बाद करें। अपने भोजन से गाय, कुत्ता एवं कौए को एक-एक टुकड़ा दें। शनिवार से आरंभ करके तैंतालीस दिन तक कौओं को रोटी डालें।

PunjabKesari Connection of shani dev and 2020

मंत्र उपासना
शनि जनित दोष निवारण के लिए किसी भी शनिवार के दिन संध्या के समय स्नान करके पूर्व दिशा की ओर मुख करके कुश व ऊन के आसन पर बैठ जाएं। अब किसी भी माला से निम्न मंत्र  की 21 माला मंत्र जाप करें। यह भगवान शनि का एकाक्षरी बीज मंत्र है, जिसके मंत्र जाप से दोषों का शमन होता है।

शनि एकाक्षरी बीज मंत्र- ॐ शनैश्चराय नम:।

PunjabKesari


Niyati Bhandari

Related News