2 दशक बाद राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति दोनों हिंदू

Monday, July 17, 2017 9:05 PM
2 दशक बाद राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति दोनों हिंदू

नई दिल्ली: भाजपा द्वारा उपराष्ट्रपति पद के लिए वैंकेया नायडू को नामित किए जाने के बाद देश में दोनों पदों में से एक पर अल्पसंख्यक समाज के व्यक्ति को बिठाने की परंपरा टूटी है। पिछले 20 साल से दोनों में से एक पद अल्पसंख्यक समाज के पास था। देश में आखिरी बार 1997 में दोनों पदों पर हिंदू चेहरे नजर आएंगे। ऐसा आखिरी बार 1997 में हुआ था जब राष्ट्रपति पद पर केआर नारायणन और उपराष्ट्रपति पद पर कृष्णकांत विराजमान थे। इसके बाद 2002 में राष्ट्रपति पद ऐपीजे अब्दुल कलाम के पास रहा तो हिंदू समाज से भैरो सिंह शेखावत उपराष्ट्रपति बने।

2007 में प्रतिभा पाटिल राष्ट्रपति बनी तो अल्पसंख्यक समाज से हामिद अंसारी को उपराष्ट्रपति बनाया गया। 2012 में प्रणब मुखर्जी को राष्ट्रपति बने तो अल्पसंख्यक समाज से एक बार फिर हामिद अंसारी को उपराष्ट्रपति बनाया गया। 1997 से पहले कई बार ऐसा मौका आया जब दोनों पदों पर बहुसंख्यक हिंदुओं का कब्जा था लेकिन 1997 के बाद यह परंपरा टूट गई थी। PunjabKesari

देखिए अब तक के राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति पद पर रहने वालों का ब्यौरा। 
राष्ट्रपति
प्रणब मुखर्जी                 7/25/12
प्रतिभा पाटिल                7/25/7
ऐपीजे अब्दुल कलाम       7/25/2
केआर नारायणन           7/25/97
शंकरदयाल शर्मा            7/25/92
रामास्वामी वैंकटरमण     7/25/87
ज्ञानी जैल सिंह             7/25/82
नीलम संजीव रेड्डी        7/25/77
बसप्पा दनप्पा जत्ती       2/11/77
फखरुद्दीन अली अहमद   8/24/74
वराहगिरी वेंकट गिरी     8/24/69
मुहम्मद हिदायतुल्लाह   7/20/69
वराहगिरी वेंकट गिरी     5/3/69
जाकिर हुसैन               5/13/67
डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन 5/13/62
डा. राजेंद्र प्रसाद        1/26/24

उपराष्ट्रपति
सर्वपल्ली राधाकृष्ण     13/5/1952
जाकिर हुसैन             13/5/1962
वीवी गिरी                13/5/1967
गोपाल स्वरूप पाठक   31/8/1969
बीडी जत्ती                 31/8/1974
मोहम्मद हिदायतुल्ला  31/8/1979
रामस्वामी वेंकटरमण  31/8/1984
शंकर दयाल शर्मा       3/9/1987
केआर नारायणन      21/8/1992
कृष्णकांत              21/8/1997
भैरो सिंह शेखावत    19/8/2002
हामिद अंसारी         11/8/2007



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!