एक मिनट का शून्यकाल, 10 घंटे काम, 133 करोड़ का नुकसान....विपक्ष की जिद से बर्बाद हुआ मानसून सत्र

punjabkesari.in Sunday, Aug 01, 2021 - 07:36 AM (IST)

नेशनल डेस्क: मानसून सत्र में विपक्षी दलों के लगातार हंगामे के चलते राज्य सभा के 50 में से 40 घंटे बेकार हो गए और केवल 10 घंटे ही काम हो सका। राज्यसभा की कार्यवाही पहले दो सप्ताहों में तय समय का सिर्फ करीब 21.60 प्रतिशत ही चल सकी और दूसरे सप्ताह में यह आंकड़ा 13.70 प्रतिशत का रहा।

PunjabKesari

39 घंटे 52 मिनट हंगामे की भेंट चढ़े
अधिकारियों ने बताया कि कुल 50 कार्य घंटों में से 39 घंटे 52 मिनट हंगामे की भेंट चढ़ गए। पहले दो सप्ताहों में नौ बैठकों के दौरान उच्च सदन में केवल एक घंटे 38 मिनट का प्रश्नकाल ही हो सका। चार विधेयकों को पारित करने के लिए केवल एक घंटे 24 मिनट का विधायी कार्य हो सका। हंगामे के चलते सदन में केवल एक मिनट का शून्यकाल हुआ और चार मिनट का विशेष उल्लेख।

PunjabKesari

करदाताओं के 133 करोड़ रुपये का नुकसान 
राज्यसभा सचिवालय ने दैनिक बुलेटिन में सदन में काम न होने से संबंधित जानकारी देने की पहली बार शुरुआत की है। सरकारी सूत्रों का दावा है कि अब तक संसद की कार्यवाही कुल निर्धारित 107 घंटे में से सिर्फ 18 घंटे ही चल पाई तथा इस व्यवधान से करदाताओं के 133 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ। सूत्रों ने बताया कि 19 जुलाई से आरंभ हुए संसद के मानसून सत्र में अब तक करीब 89 घंटे हंगामे की भेंट चढ़ चुके हैं। 

PunjabKesari

 19 जुलाई से  आरंभ हुआ थामॉनसून सत्र 
आधिकारिक सूत्रों की ओर से साझा किए गए विवरण के अनुसार इस व्यवधान से सरकारी खजाने को 133 करोड़ रुपये की क्षति पहुंची है। पेगासस और कुछ अन्य मुद्दों को लेकर पिछले कई दिनों से संसद के दोनों सदनों में गतिरोध बना हुआ है। 19 जुलाई से मॉनसून सत्र आरंभ हुआ था, लेकिन अब तक दोनों सदनों की कार्यवाही लगभग बाधित रही है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

vasudha

Related News

Recommended News