Navy Day के मौके पर जानिए, 1971 की जंग की शुरूआत से लेकर अंत तक की पूरी कहानी

punjabkesari.in Saturday, Dec 04, 2021 - 11:03 AM (IST)

नेशनल डेस्क: आज  भारतीय  नौसेना दिवस है। नौसेना ने अपनी मारक क्षमता का प्रदर्शन करते हुए कराची बंदरगाह को तहस-नहस कर दिया था।  इस पराक्रम को याद कर हर वर्ष चार दिसंबर को जाबाजों को  सलाम किया जाता है। आइए जानें नेवी डे का पूरा इतिहास:-

PunjabKesari

नौसेना ने चलाया था  'ऑपरेशन ट्राइडेंट' 

  • पाकिस्तानी सेना द्वारा 3 दिसंबर को हमारे हवाई क्षेत्र और सीमावर्ती क्षेत्र में हमला किया था। 
  • इस हमले ने 1971 के युद्ध की शुरुआत की थी। 
  • पाकिस्तान को मुह तोड़ जवाब देने के लिए  'ऑपरेशन ट्राइडेंट' चलाया गया। 
  • यह अभियान पाकिस्‍तानी नौसेना के कराची स्थित मुख्‍यालय को निशाने पर लेकर शुरू किया गया। 

PunjabKesari
सात दिन तक जलता रहा कराची तेल डिपो

  •  इस हमले में पाकिस्तान के कई जहाज नेस्‍तनाबूद कर दिए गए थे। इस दौरान पाकिस्तान के ऑयल टैंकर भी तबाह हो गए थे।
  • कराची हार्बर फ्यूल स्टोरेज के तबाह हो जाने से पाकिस्तान नौसेना की कमर टूट गई थी।
  • कराची के तेल टैंकरों में लगी आग की लपटों को 60 किलोमीटर की दूरी से भी देखा जा सकता था। 
  • बता दें कि कराची के तेल डिपो में लगी आग को सात दिनों तक नहीं बुझाया जा सका था।

PunjabKesari
नौसेना दिवस 4 दिसंबर को ही क्यों मनाया जाता है?

  • नौसेना दिवस 1971 में भारत-पाकिस्तान युद्ध में जीत हासिल करने वाली भारतीय नौसेना की शक्ति और बहादुरी को याद करते हुए मनाया जाता है। 
  • 'ऑपरेशन ट्राइडेंट' के तहत 4 दिसंबर, 1971 को भारतीय नौसेना ने पाकिस्तान के कराची नौसैनिक अड्डे पर हमला बोल दिया था।
  •  इस ऑपरेशन की सफलता को ध्यान में रखते हुए 4 दिसंबर को हर साल नौसेना दिवस मनाया जाता है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Related News

Recommended News