ऑफ द रिकॉर्डः नीति आयोग की बैठक से क्यों गैर-हाजिर रहीं निर्मला?

1/11/2020 8:19:09 AM

नेशनल डेस्कः इस तथ्य से कोई इंकार नहीं किया जा सकता कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 1 फरवरी को अपना दूसरा बजट पेश करेंगी। इस बात से भी इंकार  नहीं  कि अर्थव्यवस्था की खराब स्थिति के बावजूद कोई उन्हें दोषी नहीं मान रहा है। वह इस धारणा का सामना कर रही थीं कि अर्थव्यवस्था में मंदी की स्थिति है और प्रधानमंत्री के निर्देश पर उन्होंने देशभर का दौरा किया। यह भी किसी से छुपा नहीं है कि केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह वित्त मंत्री के तौर पर उनके कामकाज को बहुत अच्छा नहीं आंकते हैं। लेकिन इस तरह के निर्णय प्रधानमंत्री द्वारा लिए जाते हैं और उन्होंने निर्मला को अपनी कैबिनेट के मुख्य सदस्य के तौर पर बनाए रखने का फैसला लिया है। 
PunjabKesari
लेकिन जनता के लिए हैरानी की बात यह रही कि वह वीरवार को आयोजित हुई नीति आयोग की बैठक में गैर-हाजिर रहीं जबकि दिन भर चली इस बैठक में अर्थव्यवस्था की स्थिति पर चर्चा की गई। मोदी ने अपने कैबिनेट सहयोगियों अमित शाह, नितिन गडकरी तथा पियूष गोयल सहित नीति आयोग में अर्थशास्त्रियों के साथ एक मैराथन बैठक की। अर्थव्यवस्था की खराब स्थिति को देखते हुए तथा बजट में भी थोड़ा ही समय शेष रहने के चलते मोदी लगातार विभिन्न हितधारकों के साथ बैठकें कर रहे हैं तथा उनसे यह फीडबैक ले रहे हैं कि क्या किया जाना चाहिए। 
PunjabKesari
गत दिवस उन्होंने एसोचैम और किर्लोस्कर फंक्शन में वरिष्ठ उद्योगपतियों से मुलाकात की। वित्त मंत्री भी अपने स्तर पर इसी तरह के काम कर रही हैं लेकिन वीरवार को जो हुआ, उसके बारे में सुना नहीं गया था जब नीति आयोग ने तीन कैबिनेट मंत्रियों अमित शाह, परिवहन मंत्री नितिन गडकरी तथा वाणिज्य मंत्री पीषूष गोयल को बुलाया पर वित्त मंत्री की गैर-हाजिरी खटक रही थी। 
PunjabKesari
दरअसल निर्मला सीतारमण उस दौरान पार्टी मुख्यालय में पार्टी के नेताओं और कार्यकत्र्ताओं से मिल कर बजट के बारे में उनके सुझाव ले रही थीं। इसके चलते ट्वीट्स की बाढ़ आ गई। कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने तंज कसते हुए कहा, ‘‘वित्त मंत्री कहां हैं? या वे दोनों (प्रधानमंत्री और गृह मंत्री) यह भूल गए हैं कि उनके पास एक वित्त मंत्री भी है।’’ इसके जवाब में सीतारमण के कार्यालय से ट्वीट का जवाब दिया गया, ‘‘सर, वित्त मंत्री बजट पूर्व चर्चा के दौरान पहले ही उद्योगपतियों और अर्थशास्त्रियों  से  मुलाकात कर चुकी हैं।’’


Pardeep

Related News