See More

कोरोना मरीज ने मरने से चंद मिनटों पहले बनाया VIDEO, कहा- डॉक्टरों ने हटा लिया वेंटिलेटर, सांस नहीं आ रही डैडी

2020-06-29T12:03:10.403

नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। पिछले 24 घंटों में संक्रमण के 19 हजार से अधिक नये मामले सामने आये हैं जिससे संक्रमितों का आंकड़ा साढ़े पांच लाख के करीब पहुंच गया। जिससे मृतकों की संख्या बढ़कर 16,475 हो गई है। वहीं हैदराबाद में एक हैरान कर देने वाला मामला देखने को मिला जहां कोरोना से मरने वाले 26 वर्षीय युवक ने चंद मिनटों पहले अपने पिता को एक सेल्फी वीडियो भेजा, जिसमें उसने डॉक्टरों पर वेंटिलेटर को हटाने का आरोप लगाया। वीडियो में उसने कहा कि वेंटिलेटर के हटने की वजह से वह सांस नहीं ले पा रहा है। हैदराबाद के चेस्ट अस्पताल में रवि कुमार नाम के एक कोरोना पीड़ित शख्स की कुछ दिनों पहले मौत हो गई थी। रवि को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। उसने मरने के पहले अपना आखिरी दर्द भरा सेल्फी वीडियो जारी किया था।

वीडियो भेजने के कुछ मिनटों बाद ही बेटा मर गया
हैदराबाद के एक सरकारी अस्पताल के बेड से युवक ने वीडियो बनाते हुए कहा, उन्होंने (डॉक्टरों) मेरा वेंटिलेटर हटा लिया है। मैं उनसे पिछले तीन घंटों से ऑक्सीजन सपोर्ट देने की मांग कर रहा हूं, लेकिन वे जवाब नहीं दे रहे हैं। सिर्फ मेरे फेफड़े काम कर रहे हैं। मैं सांस नहीं ले पा रहा हूं। बाय डैडी, सभी को बाय, बाय डैडी। बार-बार कहने पर भी उन्होंने मेरा वेंटिलेटर हटा दिया. तीन घंटे से मुझे ऑक्सीजन नहीं मिल रहा है। अब मैं और सांस नहीं ले पा रहा हूं पापा। ऐसा लग रहा है कि मेरी धड़कने अब रुक रही हैं। युवक के पिता ने कहा कि उनका बेटा वीडियो भेजने के कुछ मिनटों बाद ही मर गया। 

शनिवार को किया गया अंतिम संस्कार 
बेटे का अंतिम संस्कार शनिवार को कर दिया गया है। पिता ने कहा, 24 जून को मेरे बेटे को काफी तेज बुखार था। कुछ अस्पतालों में भर्ती कराने की कोशिश के बाद, आखिरकार उसे एक अस्पताल में भर्ती किया गया। इसी अस्पताल में 26 जून को युवक की मौत हो गई। हालांकि, इस मामले में अस्पताल ने आरोपों से इनकार किया है। अस्पताल के सुप्रीटेंडेंट महबूब खान ने कहा है कि रवि कुमार नामक व्यक्ति 24 तारीख को हमारे चेस्ट अस्पताल में भर्ती हुआ था। 26 तारीख को उसकी मौत हो गई. जब वह भर्ती हुआ था तभी उसकी तबियत का बहुत बुरा हाल था। हमने सभी तरह की जांच की थी। इस वीडियो के वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर मैसेज की बाढ़ गई। यूजर्स का कहना है कि इस वीडियो के आधार पर डाक्टरों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए। 


Edited By

Anil dev

Related News