कोरोना की तीसरी लहर पर AIIMS डायरेक्टर ने चेताया, बोले-एक चूक के हो सकते हैं गंभीर परिणाम

5/11/2021 10:08:09 AM

नेशनल डेस्क: कोरोना की दूसरी लहर से देश में हाहाकार मचा हुआ है। वहीं वैज्ञानिक अभी कोरोना की तीसरी लहर की भी भविष्यवाणी कर रहे हैं। यह लोगों की लापरवही का ही नतीजा है कि कोरोना की दूसरी लहर इतना कहर बरपा रही है। वहीं दिल्ली एम्स निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने चेताया कि अगर हम अभी भी न संभले तो तीसरी लहर में एक चूक के गंभीर परिणाम होंगे और इस बार महामारी की चपेट में बच्चे भी आ सकते हैं।

PunjabKesari

एक न्यूज एजेंसी से बातचीत करते हुए एम्स निदेशक ने कहा कि परिजन और घर के बड़े बच्चों का खास ख्याल रखें। डॉ. गुलेरिया ने कहा कि अभी भारत में इस्तेमाल हो रहे दोनों टीकों का बच्चों पर ट्रायल हो रहा है। डॉ. रणदीप गुलेरिया ने बताया कि अभी कोवैक्सीन को 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों को दिया जा सकता, हालांकि जो ट्रायल हुआ है अभी कुछ ही दिनों में उसके परिणाम आएंगे। 

PunjabKesari

कोरोना की चेन तोड़नी जरूरी
एम्स निदेशक ने कहा कि अगर कोरोना की तीसरी लहर को रोकना है तो इस वायरस की चेन को तोड़ना होगा। उन्होंने कहा कि पहली लहर में बुजुर्ग और दूसरी में नौजवान अधिक प्रभावित हुए, ऐसे तीसरी लहर में बच्चे अधिक प्रभावित हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि जब तक वैक्सीन नहीं आ जाती तब तक बच्चों का खास ध्यान रखें और टीके के ट्राइल खत्म होते ही जब वैक्सीन आ जाए तो बच्चों का टीकाकरण जरूर करवाएं। ताकि बच्चे कम से कम संक्रमित हों और इस वायरस से लड़ पाएं। 

PunjabKesari

अगले कुछ हफ्ते काफी अहम
डॉ. गुलेरिया ने कहा कि जो आंकड़े सामने आ रहे हैं, उसके मुताबिक इस बात की संभावना है कि कोरोना की दूसरी लहर से अगले चार से छह हफ्ते में देश को राहत मिल सकती है। 15 या 20 मई से दिल्ली और इसके आसपास के इलाकों में कोरोना मामले कम होंगे। हालांकि बंगाल और पूर्वी राज्यों में संक्रमण अभी जारी रहेगा। डॉ. गुलेरिया ने कहा कि अगर कोरोना को हराना है तो मास्क जरूर पहनें और सोशल डिस्टेसिंग का भी खास ध्यान रखा जाए। साथ ही अपनी और आसपास की सफाई जरूर रखें। ज्यादा जरूरी हो तभी घर से बाहर निकलें।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Seema Sharma

Recommended News

static