चीन के साथ आपसी संवेदनशीलता, सम्मान, परस्पर हित पर बने रिश्ते के लिए भारत प्रयासरत: जयशंकर

punjabkesari.in Thursday, Sep 29, 2022 - 09:18 PM (IST)

वाशिंगटन, 29 सितंबर (भाषा) सामरिक क्षेत्र में चीन की बढ़ती सैन्य उपस्थिति के बीच भारत और अमेरिका के हिंद-प्रशांत की बेहतरी के लिए एक साझा दृष्टिकोण का जिक्र करते हुए विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा कि भारत, चीन के साथ ऐसे संबंध बनाने का प्रयास करता है जो आपसी संवेदनशीलता, सम्मान एवं परस्पर हित पर आधारित हों।

चीन का सामरिक हिंद-प्रशांत क्षेत्र में कई देशों के साथ क्षेत्रीय विवाद है और वह विशेष रूप से विवादित दक्षिण चीन सागर में अमेरिका की सक्रिय नीति का विरोध करता रहा है।

जयशंकर ने बुधवार को यहां भारतीय पत्रकारों के एक समूह से कहा, ‘‘हम चीन के साथ लगातार रिश्तों में सुधार के लिए प्रयासरत हैं। ऐसा रिश्ता जो आपसी संवेदनशीलता, सम्मान और आपसी हित पर बना हो।’’ चीन से निपटने को लेकर भारत और अमेरिका की योजना पर किए एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि दोनों देश हिंद-प्रशांत की बेहतरी व उसे मजबूत बनाने के साझा उद्देश्य रखते हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘जहां भारतीय और अमेरिकी हित की बात आती है, तो मुझे लगता है, यह हिंद-प्रशांत की स्थिरता, सुरक्षा प्रगति, समृद्धि एवं विकास पर आधारित है। यहां तक ​​कि यूक्रेन के मामले में भी क्योंकि यह युद्ध लंबे समय से लड़ा जा रहा है और वास्तव में यह लोगों के दैनिक जीवन और दुनियाभर में अशांति उत्पन्न कर सकता है।’’ जयशंकर ने कहा कि दुनिया बदल गई है और हर कोई इस बात की सराहना करता है कि कोई भी देश खुद अकेले अंतरराष्ट्रीय शांति और आम लोगों की भलाई की जिम्मेदारी या बोझ नहीं उठा सकता है।

उन्होंने कहा, ‘‘मेरे लिए, एक वैश्वीकृत दुनिया में, देश आज जागरूक हैं कि दुनिया एकध्रुवीय नहीं है, यह द्विध्रुवी नहीं है। सभी देशों को एक साथ मिलकर काम करने की जरूरत है, जहां सामान्य हित दांव पर हैं।’’ गौरतलब है कि चीन लगभग सभी विवादित दक्षिण चीन सागर पर अपना दावा करता है, हालांकि ताइवान, फिलीपीन, ब्रुनेई, मलेशिया और वियतनाम सभी इसके कुछ हिस्सों पर दावा करते हैं। बीजिंग ने दक्षिण चीन सागर में कृत्रिम द्वीप और सैन्य प्रतिष्ठान बनाए हैं। बीजिंग पूर्वी चीन सागर को लेकर जापान के साथ समुद्री विवाद में भी शामिल है।

जयशंकर ने कहा, ‘‘मैं अंतरराष्ट्रीय मामलों को परिभाषित करने में विश्वास करता हूं और सकारात्मक शब्दों में, आमतौर पर कूटनीति इसी तरह की जाती है। इसलिए, मैं आपसे आग्रह करता हूं कि आप इसे वास्तव में, हिंद-प्रशांत क्षेत्र की बेहतरी या मजबूती के रूप में हमारे बीच एक साझा उद्देश्य के रूप में सोचें।’’

यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News