Tara duba 2022: 1 अक्तूबर से तारा डूबने के कारण क्या लग गया है मांगलिक कार्यों पर Ban

punjabkesari.in Thursday, Oct 06, 2022 - 09:39 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Shukra Asta 2022 Effect: पहली अक्तूबर से तारा डूबने के कारण काफी लोगों में विशेषत: ज्योतिष विद्वानों में असमंजस या विरोधाभास की स्थिति है क्योंकि ज्योतिषीय मान्यताओं के अनुसार शुक्रास्त की अवधि में कोई शुभ अथवा मांगलिक कार्य जैसे सगाई, विवाह, गृह प्रवेश, नया कारोबार, मुंडन, गृहपयोगी सामान, विवाह की वस्तुएं, जेवर खरीदना, उद्यापन, करवाचौथ व्रत आदि नहीं किए जाते।

PunjabKesari Shukra Tara Ast 2022, Shukra Tara Ast, Shukra Asta 2022, Shukra Asta, Tara dubna, Tara dubna 2022, tara dubna dates in 2022 for marriage, tara duba 2022, Festivals in october, Shukra Asta 2022 Effect, Festivals in October 2022 

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं। अपनी जन्म तिथि अपने नाम, जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर व्हाट्सएप करें

PunjabKesari Shukra Tara Ast 2022, Shukra Tara Ast, Shukra Asta 2022, Shukra Asta, Tara dubna, Tara dubna 2022, tara dubna dates in 2022 for marriage, tara duba 2022, Festivals in october, Shukra Asta 2022 Effect, Festivals in October 2022 

Festivals in October 2022: वास्तव में विवाह के शुभ मुहूर्त देखते समय आकाश में गुरु तथा शुक्र की पोजीशन ठीक होनी चाहिए जो इस बार पहली अक्तूबर से 28 नवम्बर, 2022 तक ठीक नहीं है इसीलिए अक्तूबर तथा नवंबर में विवाह के शुभ मुहूर्त नहीं हैं। परंतु क्या तारा डूबने से सारे कार्यों पर ब्रेक लग जाएगी।

PunjabKesari Shukra Tara Ast 2022, Shukra Tara Ast, Shukra Asta 2022, Shukra Asta, Tara dubna, Tara dubna 2022, tara dubna dates in 2022 for marriage, tara duba 2022, Festivals in october, Shukra Asta 2022 Effect, Festivals in October 2022 

सभी पर्व अक्तूबर मास में शुक्रास्त के दौरान ही आ रहे हैं। नवरात्रों में, दशहरे पर, करवा चौथ पर, धन त्रयोदशी और यहां तक कि दीवाली पर भी तारा डूबा ही होगा तो क्या कोई मांगलिक कार्य न करें? इस बार तो नरक चौदस यानी छोटी दीवाली और बड़ी दीवाली आपको एक ही दिन 24 अक्तूबर को मनानी पड़ेगी क्योंकि 25 अक्तूबर को सूर्य ग्रहण है। गोवर्धन पूजा, अन्नकूट और भाई दूज जैसे पर्व एक ही दिन 26 अक्तूबर को निपटाने पड़ेंगे। लेकिन चिंता की बात नहीं, आप हर त्यौहार की भावना के अनुरूप अपनी आस्था व परिस्थितियों के अनुसार बिना किसी टैंशन के मनाएं।

PunjabKesari kundlitv


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Related News

Recommended News