Raksha Bandhan: विज्ञान ने भी माना राखी के साथ ये चीज़ बांधने के हैं ढेरों लाभ

8/14/2019 8:10:30 AM

ये नहीं देखा तो क्या देखा (VIDEO)

कल 15 अगस्त को रक्षा बंधन का त्यौहार है। बहनें अपनी भाई की कलाई को सुंदर राखीयों के साथ सजाएंगी। क्या आप जानते हैं, राखी के साथ मौली भी जरुर बांधनी चाहिए। मौली को कुछ लोग कलावा के रूप में जानते हैं। आमतौर पर हिंदू धर्म के किसी भी शुभ अवसर पर मौली को रक्षा सूत्र मानकर कलाई पर बंधवाते हैं। धर्म कार्य, यज्ञ, हवन, पूजा-पाठ आदि के समय मौली बांधना बहुत ही आवश्यक माना जाता है। इसके बिना पूजा, यज्ञ अधूरे माने जाते हैं।
PunjabKesari, Raksha bandhan
विद्वान मानते हैं कि मौली का अर्थ ऊपर होता है। ऊपर...मतलब शीश...मतलब मस्तक। भगवान शंकर के मस्तक पर चंद्रमा रहता है। उसे चंद्रमौली भी कहा जाता है। इस प्रकार मौली एक दिव्य साधना है। इस साधना के उपयोग से हम तीनों देवों तथा तीनों महादेवियों की कृपा तथा आशीर्वाद पा लेते हैं, ऐसी मान्यता है। ब्रह्मा, विष्णु, महेश तथा महालक्ष्मी, महासरस्वती और महाकाली की कृपा सरलता से पा लेने का यह सुगम उपाय है।
PunjabKesari, Raksha Bandhan
बहन जब विशेष मंत्र का उच्चारण करते हुए भाई की कलाई पर मौली बांधती है तो उसे धन-सम्पत्ति, विद्या, बुद्धि तथा शक्ति प्राप्त होने लगती है।

मंत्र- " ॐ एन बद्धो बलि राजा, दानवेन्द्रो महाबल: तेन त्वा मनुबधनानि रक्षे माचल माचल "
PunjabKesari, Raksha Bandhan
कुछ शरीर विज्ञानी विद्वान मानते हैं कि कलाई पर मौली बांधने से हमारी नाडिय़ों पर एक्यूप्रैशर हो जाता है। मौली से जो हमारी सूक्ष्म नाडिय़ों पर घर्षण होता है वही हमें कुछ रोगों से बचा देता है। वात, पित्त तथा कफ नियंत्रित होकर मौली बंधवाने वाले को निरोग कर देते हैं। जब भी रक्षा बंधन का त्यौहार अथवा कहीं यज्ञ, हवन, पूजा-पाठ या अन्य धार्मिक अनुष्ठान हों आप शुद्ध मन से अपनी कलाई पर मौली जरूर बंधवाएं, ब्राह्मण देवता या बहन को प्रणाम करें तथा हर प्रकार की कृपा पाने की जरूर कामना करें। आप इसी सरल साधना से बहुत कुछ पा लेने के अधिकारी बन जाएंगे। हां, मौली अर्थात रक्षा सूत्र बंधवाते समय श्रद्धा, आस्था तथा कामना बनाए रखें।  

 

 


Niyati Bhandari