‘No admission without permission’ वाला बोर्ड यहां काम नहीं आता

2020-10-27T11:18:58.037

 शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

कड़वे प्रवचन लेकिन सच्चे बोल- मुनि श्री तरुण सागर जी

अगर आप
अगर आप सास हैं तो अपनी बहू को इतना प्रेम दें कि बहू अपने पीहर के फोन नम्बर ही भूल जाए। अगर आप बहू हैं तो अपनी सास का इतना आदर करें कि सास अपनी बेटी का नाम लेना ही भूल जाए। अगर आप बाप हैं तो अपने बेटे को ऐसे संस्कार दें जो उसे भवसागर से तार दे और अगर आप बेटे हैं तो ऐसा जीवन जिएं कि दुनिया आपके मां-बाप से पूछे कि आखिर किस तपस्या के फल से तुमने ऐसा होनहार बेटा पाया है।

PunjabKesari Muni Shri Tarun Sagar
पाप से बचिए
मौत से बचने की कोशिश करने की बजाय पाप से बचिए। जिंदगी कुछ ऐसे गुजारिए कि मृत्यु महोत्सव बन जाए। आपको पता है ‘नो एडमिशन विदाऊट परमिशन’ वाला बोर्ड यहां काम नहीं आता। मृत्यु से घबराइए मत। वह ऐसे भी आनी है और वैसे भी आनी है। अत: जो चीज आनी ही है उससे आनाकानी करना नादानी है।

PunjabKesari Muni Shri Tarun Sagar
जब सुबह उठो
सुबह उठो तो प्रार्थना करना मत भूलो। सुबह की प्रार्थना में बड़ी ताकत होती है। सारे फूल सुबह ही खिलते हैं। ज्यादातर बच्चे सुबह जन्मते हैं। मरीज की पीड़ा सुबह-सुबह कम हो जाती है। सुबह झगड़े कम होते हैं। सुबह उठते ही किसी के घर में आग लगाने का काम मत करो। सुबह आग नहीं सिर्फ बाग लगाओ, आग लगाने के लिए तो पूरा दिन पड़ा है, आखिर इतनी भी क्या जल्दी है।

PunjabKesari Muni Shri Tarun Sagar

आप कौन हैं
दुनिया में चार तरह के लोग हैं। एक वे, जिनका मानना है कि मेरा तो मेरा है ही, तेरा भी मेरा है। यह मिथ्यादृष्टि है। दूसरे वे, जिनका मानना है कि भाई! मेरा मेरा है और तेरा तेरा है। यह सम्यक दृष्टि है। तीसरे वे जिनका मानना है कि भाई! तेरा तेरा ही है, मेरा भी तेरा है। यह संत-दृष्टि है और चौथे वे, जिनका मानना है कि न मेरा है-न तेरा है यह सब एक झमेला है- यह हंस दृष्टि है। इन चारों में आप कौन हैं?

PunjabKesari Muni Shri Tarun Sagar


Niyati Bhandari

Related News