See More

Sawan 2020: कोरोना के कारण भक्त नहीं कर पाएंगे ठाकुर जी के हिंडोला दर्शन

2020-07-07T18:41:10.41

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
कोरोना संकट के बीच जहां एक तरफ़ इससे संक्रमित हो रहे मरीजो़ं की संख्या में लगातार बढ़ने के कारण लोग परेशान हैं तो वहीं बहुत से लोग इस बात से भी आहत है कि सावन जैसे पावन माह में वो मंदिरों में जाकर उस विधि-विधान से जाकर पूजा अर्चना नहीं कर पाएंगे। इसी बीच एक और ऐसी खबर सामने आई है जो जानकर आपको शायद अच्छा न लगे। जी हां, खबरों की मानें तो बताया जा रहा है मथुरा-वृंदावन के सुप्रसिद्ध मंदिरों में श्रद्धालु सोने-चांदी के हिण्डालों में विराजमान ठाकुर जी के दर्शन नहीं कर पाएंगे। कहा जा रहा है इस बार इन दिनों में सभी प्रमुख मंदिर भक्तजनों के लिए बंद रहने वाले हैं। कोरोना महामारी को मद्देनज़र ये फैसला लिया है कि इस दौरान केवल नियमानुसार ठाकुर जी को भोग एवं उनका सेवा-पूजन किया जाएगा, जिसमें केवल मंदिर के पुजारी ही शामिल होंगे।   
PunjabKesari, Mathura Vrindavan, Hariyali Teej, Thakur Ji, Mathura Vrindavan On The Occasion Of Hariyali Teej, Dwarkadhish, द्वारिकाधीश मंदिर, Devotees Gold-silver Hindalas In Temples, Sawan 2020, Sawan, सावन 2020, सावन 2020, Lord Shiva, भोलेनाथ, Mathura, thakur ji, ठाकुर जी के हिंडोला दर्शन, Dharmik Sthal, Religious Place in india
बता दें मथुरा में विराजमान ठाकुर जी यानि द्वारिकाधीश मंदिर की लगभग 200 वर्ष से पहले स्थापना से लेकर अब तक प्रतिवर्ष सावन की दूज तिथि से सावन के पूरे माह तक राधाधिराज नित्यप्रति सोने और चांदी के हिण्डोलों में दर्शन देते आए हैं। 
PunjabKesari, Mathura Vrindavan, Hariyali Teej, Thakur Ji, Mathura Vrindavan On The Occasion Of Hariyali Teej, Dwarkadhish, द्वारिकाधीश मंदिर, Devotees Gold-silver Hindalas In Temples, Sawan 2020, Sawan, सावन 2020, सावन 2020, Lord Shiva, भोलेनाथ, Mathura, thakur ji, ठाकुर जी के हिंडोला दर्शन, Dharmik Sthal, Religious Place in india
लेकिन इस साल उपरोक्त अवधि (7 जुलाई से 5 अगस्त तक) यह परंपरा जारी नहीं रह पाएगी, न ही कोई भक्त अपने भगवान के दर्शन कर पाएगा। तो ठीक इसी प्रकार वृंदावन के विश्वप्रसिद्ध बांकेबिहारी मंदिर में हरियाली तीज के दिन पूरे साल में केवल 1 बार ठाकुर जी सोने व चांदी के कई मन भारी हिण्डोलों में विराजते हैं, जो कोरोना काल के कारण इस सल संभव नहीं, इससे फैलते संक्रमण को रोकने के लिए ये फैसला लिया गया है।
PunjabKesari, Mathura Vrindavan, Hariyali Teej, Thakur Ji, Mathura Vrindavan On The Occasion Of Hariyali Teej, Dwarkadhish, द्वारिकाधीश मंदिर, Devotees Gold-silver Hindalas In Temples, Sawan 2020, Sawan, सावन 2020, सावन 2020, Lord Shiva, भोलेनाथ, Mathura, thakur ji, ठाकुर जी के हिंडोला दर्शन, Dharmik Sthal, Religious Place in india
मंदिर के पुजारियों द्वारा  बताया गया कि भिन्न-भिन्न कुल 130 टुकड़ों में बनाए गए हिण्डोलों की स्थापना 1947 में श्रावण शुक्ल तृतीया, जिसे आम भाष में आज कल हरियाली तीज के नाम से कहा जाता है, को पहली बार ठाकुर जी को विराजमान कराया गया था। संयोगवश से यह दिन देश यानि भारत की आजादी का दिन (15 अगस्त)था। इसी दिन के बाद ये प्राचीन परंपरा यहां जारी है, जो इस बार कोरोना के चलते रद्द कर दी गई है।


Jyoti

Related News