मंगलवार के दिन करें मां दुर्गा को इस पूजा विधि से प्रसन्न

11/19/2019 4:42:20 PM

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
मंगलवार का दिन हनुमान जी की पूजा का दिन होता है। लेकिन मंगलवार के दिन ही मां दुर्गा की आराधना भी की जा सकती है। कहते हैं कि इस दिन जो इंसान पूरे विधि-विधान से माता की आराधना करता है, उसके सारे दुख मां हमेशा के लिए दूर कर देती है। मां दुर्गा का पूजन श्रद्धापूर्वक करने से हर तरह की भौतिक एवं आध्यात्मिक कामनाएं पूरी होने लगती है। आज हम आपको इस दिन से जुड़ी कुछ विशेष जानकारी के बारे में बताने जा रहे हैं। 
PunjabKesari
पूजा सामग्री 
मां दुर्गा का पूजन श्रद्धापूर्वक करने से हर तरह की भौतिक एवं आध्यात्मिक कामनाएं पूरी होने लगती है। पंचमेवा, पंचमिठाई, रूई, कलावा, रोली, सिंदूर, गीला नारियल, अक्षत, लाल वस्त्र, फूल, 5 सुपारी, लौंग, पान के पत्ते 5, गाय का घी, चौकी, कलश, आम का पल्लव, समिधा, कमल गट्टे, पंचामृत की थाली, कुशा, लाल चंदन, चंदन, जौ, तिल, सोलह श्रृंगार का सामान, लाल फूलों की माला।

ऐसे करें पूजन 
सर्व मंगल मागंल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके। शरण्येत्रयम्बिके गौरी नारायणी नमोस्तुते॥ 
इस मंत्र का उच्चारण करते हुए मां दुर्गा का आवाहन करें।
PunjabKesari
माता को आसन अर्पित करें
श्रीजगदम्बायै दुर्गादेव्यै नम:। 
आसानार्थे पुष्पाणि समर्पयामि॥ 

अर्घ्य अर्पित करें
श्रीजगदम्बायै दुर्गादेव्यै नम:। 
हस्तयो: अर्घ्यं समर्पयामि॥

पंचामृत स्नान करावें
श्रीजगदम्बायै दुर्गादेव्यै नम:। 
पंचामृतस्नानं समर्पयामि॥ 

शुद्ध जल से स्नान करावें
श्रीजगदम्बायै दुर्गादेव्यै नम:।  
शुद्धोदकस्नानं समर्पयामि॥ 
PunjabKesari
उपरोक्त विधि से आवाहन पूजन के बाद इनसें से किसी भी एक मंत्र का जप जो मनोकामना हो उसके पूर्ण होने की कामना से करें।
ॐ जयन्ती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी।
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोस्तुते॥ 
देवि प्रपन्नार्तिहरे प्रसीद प्रसीद मातर्जगतोखिलस्य।
प्रसीद विश्वेश्वरि पाहि विश्वं त्वमीश्वरी देवि चराचरस्य॥ 
देहि सौभाग्यमारोग्यं देहि मे परमं सुखम्। 
रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि॥
प्रणतानां प्रसीद त्वं देवि विश्वार्तिहारिणि। 
त्रैलोक्यवासिनामीड्ये लोकानां वरदा भव॥


Lata

Related News