Inspirational Story: आपका बेकार सामान, आ सकता है किसी के काम

punjabkesari.in Thursday, May 05, 2022 - 10:06 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Inspirational Story: खुदीराम बोस एक दिन ईश्वर चंद्र विद्यासागर के निवास स्थान पर उनसे मिलने गए। विद्यासागर ने उन्हें खाने के लिए कुछ संतरे दिए। खुदीराम छील कर संतरों के छिलकों को कूड़ेदान में फैंकने लगे और उसके टुकड़े खाने लगे। यह देख कर विद्यासागर बोले, ‘‘देखो भाई, इन्हें बेकार समझ कर न फैंको। ये भी किसी के उपयोग की वस्तु हैं। इन्हें खाकर किसी की भूख मिट सकती है।’’ 

PunjabKesari, Anmol Vachan in Hindi, Anmol Vachan

यह सुन कर खुदीराम को काफी आश्चर्य हुआ और वह बोले, ‘‘भला संतरे के छिलके किसके काम आ सकते हैं।’’

विद्यासागर हंसकर बोले, ‘‘आप संतरों के छिलकों को खिड़की के बाहर रख दें और वहां से हट जाएं तो अभी आपको मालूम पड़ जाएगा कि ये किसके उपयोग की वस्तु हैं।’’

PunjabKesari, Anmol Vachan in Hindi, Anmol Vachan

खुदीराम कुछ संतरे के छिलकों को खिड़की के बाहर रख कर अपने स्थान पर आकर बैठ गए। इतने में कुछ कौवे उन्हें लेने आ गए। 
अब विद्यासागर बोले, ‘‘देखो, जब तक कोई वस्तु किसी प्राणी के लिए उपयोगी हो, तब तक उसे फैंकना नहीं चाहिए।’’

‘‘उसे इस प्रकार रखना चाहिए कि उसमें धूल-मिट्टी न लगे और वह किसी न किसी जीव के उपयोग में आ जाए। जिन चीजों को आप बेकार समझते हैं वे किसी का पेट भर सकती हैं।’’

PunjabKesari, ​​​​​​​Anmol Vachan in Hindi, Anmol Vachan


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Related News

Recommended News