Gopeshwar Mahadev: श्रीकृष्ण प्रेम में भगवान शिव बने महिला, गवाह है ये मंदिर

10/21/2021 11:13:20 AM

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Gopeshwar Mahadev Temple Vrindavan: आप सभी ने यह सुना होगा कि भगवान शिव ने एक बार गोपी का स्वरूप धारण किया था। श्रीमद्भागवत महापुराण के अनुसार जब भगवान विष्णु ने द्वापर में कृष्ण अवतार लिया तब उन्होंने एक बार शरद पूर्णिमा के दिन ब्रज-गोपिकाओं के साथ महारास करने का निश्चय किया। उन्होंने अपनी कामबीज नामक बंसी पर जब तान छेड़ा तो सारी गोपिकाएं बंसी की धुन सुन कर भागी-भागी मधुबन को आ गई। 

PunjabKesari Gopeshwar Mahadev Temple

Story of gopeshwar mahadev: बंसी की धुन से तीनों लोक गुंजायमान हो गए पर बंसी की धुन केवल श्रीकृष्ण प्रेमानंदियो को ही सुनाई पड़ी। श्रीकृष्ण भक्ति के रस में डूबे भोलेनाथ ने जब यह बंसी सुनी तब उनसे नहीं रहा गया और वे पार्वती सहित भागे-भागे मधुबन में आ गए, जहां श्रीकृष्ण गोपियों के साथ महारास करने वाले थे।

PunjabKesari ​​​​​​​Gopeshwar Mahadev Temple

स्थल पर जैसे ही भोलेनाथ पंहुचे की उन्हें द्वार पर खड़ी गोपियों ने रोक दिया और कहने लगी, "हे ! भोलेनाथ ये महारास है, यहां श्रीकृष्ण के अलावा कोई अन्य पुरुष प्रवेश नहीं कर सकता। यदि महारास में प्रवेश पाना है तो जाइये किसी गोपी का वेश बनाकर आइये।"

PunjabKesari ​​​​​​​Gopeshwar Mahadev Temple

तब भोलेनाथ बड़े निराश हुए । इतने में माता पार्वती ने गोपियों से कहा, "हे देवियों ! मैं तो स्त्री हूं, मुझे तो महारास में प्रवेश मिलेगा न। तो गोपियों ने माता पार्वती का स्वागत किया और भोलेनाथ वापस लौट गए।

PunjabKesari ​​​​​​​Gopeshwar Mahadev Temple

भोलेनाथ ने फिर एक योजना बनाई की क्यों न किसी गोपी का वेश धारण किया जाए पर फिर उन्होंने सोचा कि गोपी बन तो जाऊं पर बनूं कैसे ? सोचते-सोचते वे यमुना जी के तट पर पंहुच गए। उनकी इस उलझन को देख कर यमुना जी प्रकट हो गई और भोलेनाथ से उदासी का कारण पूछा। 

PunjabKesari ​​​​​​​Gopeshwar Mahadev Temple

भोलेनाथ ने सब कथा सुनाई। फिर यमुना जी ने कहा कि आइये भोले बाबा मैं आपको गोपी बनाती हूं। फिर यमुना जी ने भोलेनाथ का अपने जाल से अभिषेक किया। फिर उन्हें गोपियों के वस्त्र आभूषण आदि पहनाये।

PunjabKesari ​​​​​​​Gopeshwar Mahadev Temple

लहंगा फरिया पहन कर भोले बाबा आज पूरे गोपी लग रहे थे। फिर उन्होंने वापस महारास स्थल की तरफ प्रस्थान किया तो पुनः द्वार पर गोपिया मिल गई। फिर भोलेबाबा ने कहा- मैं श्रीकृष्ण के महारास में प्रवेश पाने आई हूं। गोपियों ने भोलेबाबा को गोपी समझकर महारास में प्रवेश करने दिया।

PunjabKesari ​​​​​​​Gopeshwar Mahadev Temple

भोलेनाथ जब महारास में श्रीकृष्ण के सम्मुख आये तब श्रीकृष्ण ने उन्हें तुरंत पहचान लिया और भोले बाबा का स्वागत कर कहने लगे- आओ आओ मेरे गोपेश्वर नाथ आप के इस महारास में प्रवेश से हम सभी धन्य हो गए और फिर श्रीकृष्ण ने अन्य गोपियों के साथ-साथ भोलेबाबा के साथ भी महारास किया। इस प्रकार भगवान शिव ने गोपी का स्वरूप धारण किया था। आज भी वृंदावन के निकट भोले बाबा के गोपी विग्रह का गोपेश्वर महादेव के नाम से पूजन किया जाता।

PunjabKesari ​​​​​​​Gopeshwar Mahadev Temple


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Recommended News