Gita Mahotsav: कुरुक्षेत्र में गूंजे गीता के उपदेश

punjabkesari.in Tuesday, Nov 22, 2022 - 08:00 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

कुरुक्षेत्र (धमीजा): मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार भारत भूषण भारती ने कहा कि धर्मक्षेत्र कुरुक्षेत्र की पवित्र स्थली ज्योतिसर से पूरे विश्व को गीता का ज्ञान मिला। गीता में दिए ज्ञान में मानव की हर समस्या का समाधान निहित है। गीता के श्लोकों का स्मरण करने से जहां मन को शांति मिलती है।वहीं हमारे आध्यात्मिक ज्ञान में भी वृद्धि होती है। कुरुक्षेत्र स्थित ब्रहमसरोवर व सन्निहित सरोवर के जल के आचमन मात्र से ही मनुष्य को पापों से मुक्ति मिलती है। सूर्य ग्रहण, सोमवती अमावस्या, चौदस सहित अन्य धार्मिक अवसरों पर इन सरोवरों के पवित्र जल में स्नान करने से हजारों यज्ञों के बराबर पुण्य की प्राप्ति होती है। राजनीतिक सलाहकार भारत भूषण भारती सोमवार को देर सायं ब्रह्मसरोवर पुरुषोतमपुरा बाग में महोत्सव के गीता महाआरती कार्यक्रम में मुख्यातिथि के रूप में बोल रहे थें। 

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं। अपनी जन्म तिथि अपने नाम, जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर व्हाट्सएप करें

इससे पहले राजनीतिक सलाहकार भारत भूषण भारती, भाजपा जिलाध्यक्ष रवि बतान, पूर्व जिलाध्यक्ष राजकुमार सैनी, के.डी.बी. के मानद सचिव मदन मोहन छाबड़ा, के.डी.बी. सी.ई.ओ. चंद्रकांत कटारिया, डा. प्रीतम सिंह, सुशील राणा, रविंद्र सांगवान, गणेश दत्त, परमजीत कौर कश्यप, भाजपा प्रवक्ता विनित क्वात्रा सहित अन्य गण्यमान्य लोगों ने अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव पर ब्रह्मसरोवर की महाआरती और पूजा-अर्चना की तथा दीपशिखा प्रज्वलित कर विधिवत रूप से महाआरती का शुभारम्भ भी किया। महाआरती का गुणगान पंडित बलराम गौतम, पंडित सोमनाथ शर्मा, गोपाल कृष्ण गौतम, अनिल व रूद्र ने किया।

राजनीतिक सलाहकार भारत भूषण भारती ने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने कुरुक्षेत्र की पावन धरा से पूरे विश्व को गीता के उपदेश दिए। इस पवित्र ग्रंथ गीता के उपदेश आज भी पूरे विश्व के लिए प्रासंगिक है। इसलिए कुरुक्षेत्र का महत्व पूरे विश्व में है। इस पावन धरा पर हर वर्ष कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड की तरफ से अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव और सभी संस्थाओं की तरफ से भी गीता महोत्सव को पर परागत और हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। इस सांध्यकालीन महाआरती को देखने पर सुखद अहसास होता है। कार्यक्रम के अंत में के.डी.बी. की तरफ से सभी मेहमानों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।

PunjabKesari kundli

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Related News

Recommended News