अन्नपूर्णा जयंती 2020: धन की कमी होगी दूर, आज ज़रूर करें इस स्त्रोत का पाठ

2020-12-29T11:30:07.52

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
आज यानि मार्गशीर्ष मास रके शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि दत्तात्रेय जंयती के साथ-साथ अन्नपूर्णा जयंती का पर्व भी मनाया जा रहा है। धार्मिक शास्त्रों के अनुसार मार्गशीर्ष  मास की पूर्णिमा तिथि के दिन मां अन्नपूर्णा का धरती वासियों के समस्त प्रकार के दुखों का नाश करने के लिए धरती पर अवतरण हुआ था। सनातन धर्म में इस दिन का अधिक महत्व है। इसे बेहद पावन दिन माना जाता है। यही कारण है कि प्रत्येक वर्ष इस दिन को बहुत धूम धाम से मनाया जाता है। धार्मिक पुराणों आदि में जो वर्णन किया गया है उसके अनुसार मां अन्नपूर्णा स्वयं भगवान शंकर की महाशक्ति देवी पार्वती का ही अंश अवतार है। इसलिए आज के दिन भगवान शंकर के साथ-साथ देवी पार्वती की पूजा का भी खासा महत्व रहता है। 
PunjabKesari, annapurna Stotram mantra, annapurna stotram paath, annapurna Stotram in hindi, annapurna jayanti 2020, annapurna jayanti, Mata annapurna, Lord Shiva , Devi annapurna, annapurna devi puja 2020, annapurna vrat 2020, annapurna puja 2020 december,  annapurna vrat 2020 date and time
ज्योतिषी मानते हैं कि इस दिन जो व्यक्ति अपने घर में दोनों समय यानि सुबह शाम अन्नपूर्णा माता की पूजा करता है, तथा गाय के शुद्ध घी का दीपत जलाकर निम्न स्त्रोत का पाठ करता है उसके घर में कभी धन और अन्न की कमी होती है साथ ही साथ जीवन के समस्त प्रकार के दुखों का नाश होता है। तो आइए जानते हैं कौन सा है वो स्तोत्र- 

इस अन्नपूर्णा स्त्रोत का करें पाठ
नित्यानन्दकरी वराभयकरी सौंदर्यरत्नाकरी।
निर्धूताखिल-घोरपावनकरी प्रत्यक्षमाहेश्वरी।
प्रालेयाचल-वंशपावनकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपुर्णेश्वरी।।
नानारत्न-विचित्र-भूषणकरी हेमाम्बराडम्बरी
मुक्ताहार-विलम्बमान विलसद्वक्षोज-कुम्भान्तरी।
काश्मीराऽगुरुवासिता रुचिकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी।।
योगानन्दकरी रिपुक्षयकरी धर्माऽर्थनिष्ठाकरी।
चन्द्रार्कानल-भासमानलहरी त्रैलोक्यरक्षाकरी।

सर्वैश्वर्य-समस्त वांछितकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी।।
कैलासाचल-कन्दरालयकरी गौरी उमा शंकरी।
कौमारी निगमार्थगोचरकरी ओंकारबीजाक्षरी।
मोक्षद्वार-कपाट-पाटनकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी।।
दृश्याऽदृश्य-प्रभूतवाहनकरी ब्रह्माण्डभाण्डोदरी।
लीलानाटकसूत्रभेदनकरी विज्ञानदीपांकुरी।
श्री विश्वेशमन प्रसादनकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी।।
PunjabKesari, annapurna Stotram mantra, annapurna stotram paath, annapurna Stotram in hindi, annapurna jayanti 2020, annapurna jayanti, Mata annapurna, Lord Shiva , Devi annapurna, annapurna devi puja 2020, annapurna vrat 2020, annapurna puja 2020 december,  annapurna vrat 2020 date and time
उर्वी सर्वजनेश्वरी भगवती माताऽन्नपूर्णेश्वरी।
वेणीनील-समान-कुन्तलहरी नित्यान्नदानेश्वरी।
सर्वानन्दकरी दृशां शुभकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी।।
आदिक्षान्त-समस्तवर्णनकरी शम्भोस्त्रिभावाकरी।
काश्मीरा त्रिजलेश्वरी त्रिलहरी नित्यांकुरा शर्वरी।
कामाकांक्षकरी जनोदयकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी।।

देवी सर्वविचित्ररत्नरचिता दाक्षायणी सुंदरी।
वामस्वादु पयोधर-प्रियकरी सौभाग्यमाहेश्वरी।
भक्ताऽभीष्टकरी दशाशुभकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी।।
चर्न्द्रार्कानल कोटिकोटिसदृशा चन्द्रांशुबिम्बाधरी।
चन्द्रार्काग्नि समान-कुन्तलहरी चन्द्रार्कवर्णेश्वरी।
माला पुस्तक-पाश-सांगकुशधरी काशीपुराधीश्वरी।
शिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी।।
PunjabKesari, annapurna Stotram mantra, annapurna stotram paath, annapurna Stotram in hindi, annapurna jayanti 2020, annapurna jayanti, Mata annapurna, Lord Shiva , Devi annapurna, annapurna devi puja 2020, annapurna vrat 2020, annapurna puja 2020 december,  annapurna vrat 2020 date and time
क्षत्रत्राणकरी महाऽभयकरी माता कृपासागरी।
साक्षान्मोक्षरी सदा शिवंकरी विश्वेश्वरी श्रीधरी।
दक्षाक्रन्दकरी निरामयकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलंबनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी।।
अन्नपूर्णे सदा पूर्णे शंकरप्राणवल्लभे ।
ज्ञान वैराग्य-सिद्ध्‌यर्थं भिक्षां देहिं च पार्वति।।
माता च पार्वती देवी पिता देवो महेश्वरः।
बान्धवाः शिवभक्ताश्च स्वदेशो भुवनत्रयम्‌।।


Content Writer

Jyoti

Recommended News