अमेरिका-चीन के बढ़ते तनाव से Tesla की इस योजना को लग सकता है झटका

5/12/2021 1:39:19 PM

बिजनेस डेस्कः अमेरिकी इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली कंपनी टेस्ला चीन के शंघाई में स्थित अपने मैन्यूफैक्चरिंग प्लांट की विस्तार योजना को रोक सकती है। अमेरिकी इलेक्ट्रिक कार निर्माता कंपनी टेस्ला (Tesla) शंघाई में अपने मैन्युफैक्चरिंग कैपेसिटी को बढ़ाकर इसे ग्लोबल एक्सपोर्ट हब (GEH) बनाना चाहती थी। इस मामले से जुड़े सूत्रों के अनुसार, कंपनी ने यह फैसला अमेरिका-चीन के बीच बढ़ते तनाव की वजह से लिया है। 

अब भी काफी टैक्स
अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन से इलेक्ट्रिक कार के आयात पर मौजूदा कर के साथ 25 फ़ीसदी एक्स्ट्रा टैरिफ लगा दिया था। यह शुल्क अभी चालू है। इसके बाद इलेक्ट्रिक कार की दिग्गज कंपनी Tesla ने चीन में उत्पादन बढ़ाने की योजनाओं में कटौती की है। टेस्ला ने इससे पहले अपने चीनी निर्मित एंट्री लेवल मॉडल 3 के एक्सपोर्ट को एक्सपैंड करने की प्लानिंग की थी जिसमें अमेरिका भी शामिल था।

शेयरों पर दिखा असर 
मंगलवार को प्री मार्केट ट्रेडिंग में टेस्ला के शेयर 7 फीसदी गिरकर कारोबार कर रहे थे। शेयर बाजार खुलने के बाद इसने कुछ भरपाई की और यह करीब 1 फ़ीसदी कमजोर चल रहा था। टेस्ला ने इससे पहले योजना बनाई थी कि चीन में बनी हुई एंट्री लेवल इलेक्ट्रिक कार मॉडल 3 को वह दुनिया के अधिक से अधिक बाजार में बेचने के लिए अपनी निर्माण क्षमता बढ़ाएगी। कंपनी अमेरिकी बाजारों में भी एंट्री लेवल मॉडल 3 को बेचना चाहती थी। इस समय टेस्ला चीन में बनी मॉडल 3 को यूरोप में बेच रही है, इसके साथ ही जर्मनी में भी एक प्लांट लगा रही है। 

प्रोडक्शन बढ़ाने की थी योजना
चीन के शंघाई में बनी टेस्ला की फैक्ट्री सालाना 5,00,000 इलेक्ट्रिक कार बनाने में सक्षम है। इस समय मॉडल 3 और मॉडल वाई कार की इस फैक्ट्री में 450,000 यूनिट सालाना बनाई जा रही है। इस साल मार्च में ही टेस्ला (Tesla) ने शंघाई में अपनी यूनिट के पास बिक रहे प्लॉट की बोली से हाथ खींच लिया था। कंपनी ने कहा था कि चीन में प्रोडक्शन कैपेसिटी बढ़ाने की इसकी अब कोई योजना नहीं है। 
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

jyoti choudhary

Recommended News

static