पेट्रोल-डीजल की कीमतों में आ सकती है कमी, तेल निर्यातक देशों ने लिया ये बड़ा फैसला

2021-04-02T11:25:35.227

बिजनेस डेस्कः तेल निर्यातक देशों के संगठन (ओपेक) और सहयोगी देश तेल उत्पादन धीरे-धीरे बढ़ाने पर सहमत हुए हैं। इससे पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कमी आ सकती है। ओपेक ने गुरुवार को कहा कि वे मई से जुलाई के दौरान 20 लाख बैरल प्रतिदिन तक तेल उत्पादन बढ़ाएंगे। उन्होंने कहा कि वे सतर्क रुख अपनाते हुए कोविड-19 महामारी से वैश्विक अर्थव्यवस्था में पुनरूद्धार के साथ कदम उठा रहे हैं। महामारी के दौरान मांग घटने से कीमत में गिरावट को थामने के इरादे से ओपेक और सहयोगी देशों ने पिछले साल उत्पादन घटाने का निर्णय किया था।

PunjabKesari

अब समूह ने मई से जुलाई के दौरान प्रतिदिन 20 लाख बैरल तेल उत्पादन बढ़ाने का निर्णय किया है। समूह मई में साढ़े तेल लाख बैरेल प्रतिदिन, साढ़े तीन लाख बैरल प्रतिदिन जून में और चार लाख बैरल जुलाई में बढ़ाएंगे। इस बीच, सऊदी अरब ने कहा कि वह खुद से 10 लाख बैरल प्रतिदिन अतिरिक्त उत्पादन की बहाली करेगा।  

PunjabKesari

धर्मेंद्र प्रधान ने की थी अपील  
इससे पहले पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने ओपेक देशों से अपील की थी कि कच्चे तेल के दाम में स्थिरता लाने के लिए वह उत्पादन पर लागू बंदिशों को कम करें। उनका मानना था कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में बढ़ते कच्चे तेल के दाम से आर्थिक क्षेत्र में आने वाला सुधार और मांग दोनों पर बुरा असर पड़ रहा है।  

PunjabKesari

ओपेक देशों की बैठक के बाद भारत के आग्रह के बारे में पूछे गए सवाल पर सऊदी अरब के ऊर्जा मंत्री प्रिंस अब्दुलाजीज बिन सलमान ने कहा था कि भारत को पिछले साल काफी कम दाम पर खरीदे गए कच्चे तेल के भंडार में से कुछ तेल का इस्तेमाल कर लेना चाहिए।

तेल के दामों में राहत 
पिछले कुछ दिनों से देश में तेल के दामों से लोगों को राहत मिली है। देश की प्रमुख पेट्रोलियम कंपनियों ने पेट्रोल डीजल की कीमतों में कोई वृद्धि नहीं की है। इस प्रकार पूरे पश्चिम बंगाल सहित 5 राज्यों में चुनाव के चलते मार्च महीने में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई है। 


Content Writer

jyoti choudhary

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static