मोदी सरकार पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी में 8.5 रुपए प्रति लीटर तक कर सकती है कटौती

3/3/2021 6:35:17 PM

बिजनेस डेस्कः सरकार के पास पेट्रोल और डीजल पर 8.50 रुपए प्रति लीटर तक उत्पाद शुल्क में कटौती करने की गुंजाइश है। विश्लेषकों का ऐसा मानना है कि इन ईंधनों से मिलने वाले राजस्व के लक्ष्य पर असर डाले बिना यह कटौती की जा सकती है। कच्चे तेल के दामों में उछाल के बीच भारत में पेट्रोल और डीजल के खुदरा भाव इस समय अभूतपूर्व ऊंचाई पर चल रहे हैं। पिछले नौ महीने से इनके दाम बढ़ रहे हैं। 

यह भी पढ़ें- फरवरी में एक साल की सबसे तेज गति से बढ़ा भारत का सेवा क्षेत्र, रोजगार में गिरावट जारी  

विपक्षी दल और समाज के कुछ वर्गों से पेट्रोलिमय ईधन पर करों में कटौती की मांग की जा रही है ताकि उपभोक्ताओं को कुछ राहत मिले। आईसीआईसीआई सिक्युरिटीज ने एक नोट में कहा, ‘‘हमारा अनुमान है कि वित्त वर्ष 2021-22 में वाहन ईंधन पर यदि उत्पाद शुल्क में कोई कटौती नहीं की जाती है तो यह 4.35 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच जाएगी जबकि बजट अनुमान 3.2 लाख करोड़ रुपए का है। इस हिसाब से यदि एक अप्रैल 2021 को अथवा इससे पहले उत्पाद शुल्क में 8.5 रुपए प्रति लीटर की भी कटौती की जाती है तो अगले वित्त वर्ष के बजट अनुमान को हासिल कर लिया जाएगा।''

यह भी पढ़ें- 6 करोड़ PF सब्सक्राइबर्स को लग सकता है झटका! 4 मार्च को EPFO कर सकता है बड़ा ऐलान

कच्चे तेल के दाम 2 दशक के निम्न स्तर पर 
कंपनी ने उम्मीद जताई है कि मांग में सुधार आने, निजीकरण को बढ़ावा दिए जाने और मुद्रास्फीति को लेकर बढ़ती चिंता के बीच उत्पाद शुल्क में कटौती की उम्मीद है लेकिन यह कटौती 8.5 रुपए प्रति लीटर से कम रह सकती है। पिछले साल मार्च से लेकर मई 2020 के बीच पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क में 13 रुपए और डीजल में 16 रुपए लीटर की वृद्धि की गई। वर्तमान में पेट्रोल पर कुल मिलाकर 32.90 रुपए और डीजल पर 31.80 रुपए लीटर उत्पाद शुल्क लागू है। उस समय अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम दो दशक के निम्न स्तर पर पहुंच गए थे। 

यह भी पढ़ें- यूजर्स ने Amazon के Logo को बताया हिटलर जैसा, ट्रोल होने पर कर दिया बदलाव

अंतरराष्ट्रीय बाजार में आई भारी गिरावट का लाभ उठाते हुए ही दोनों ईंधनों पर उत्पाद शुल्क में वृद्धि की गई लेकिन अब जबकि दुनिया में कच्चे तेल के दाम फिर से ऊंचाई की तरफ पहुचने लगे हैं उत्पाद शुल्क की दर उसी ऊंचाई पर है। आईसीआईसीआई सिक्युरिटीज का कहना है, यदि कटौती ज्यादा नरम होगी तो हमारा मानना है कि वित्त वर्ष 2021-22 में उत्पाद शुल्क प्राप्ति बजट अनुमान से अधिक रह सकती है।'' 

2014-2016 के बीच 9 बार बढ़ाया उत्पाद शुल्क 
वर्तमान में पेट्रोल की खुदरा कीमत में 60 प्रतिशत तक केन्द्र और राज्य के करों का हिस्सा है जबकि डीजल के खुदरा मूल्य में करों का हिस्सा 54 प्रतिशत तक है। इस समय दिल्ली में पेट्रोल का दाम 91.17 रुपए और डीजल का दाम 81.47 रुपए लीटर है। केन्द्र सरकार ने नवंबर 2014 से लेकर जनवरी 2016 के बीच अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के गिरते दाम का लाभ उठाते हुए 9 बार पेट्रोल, डीजल पर उत्पाद शुल्क बढ़ाया। कुल मिलाकर 15 माह में पेट्रोल पर उत्पाद शुलक में 11.77 रुपए और डीजल पर 13.47 रुपए लीटर की वृद्धि की गई। इससे सरकारी खजाने में भी अच्छी वृद्धि हुई। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

jyoti choudhary

Recommended News

static