महाशिवरात्रि पर्व: PAK के इस मंदिर में ''गांधी परिवार'' की तरफ से होगा रूद्राभिषेक

Friday, February 24, 2017 1:05 PM

नई दिल्लीः  महाशिवरात्रि पर्व की आज देशभर में धूम है। मंदिरों में बम-बम भोले के जयकारे गूंज रहे हैं। इस पावन अवसर पर पाकिस्तान के कटासराज शिव मंदिर में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उनकी बेटी प्रियंका वाड्रा गांधी ने पूजा के लिए सामग्री भेजी है। महाशिवरात्रि पर सोनिया, प्रियंका की तरफ से आज पाकिस्तान के कटासराज मंदिर में शिव जी का अभिषेक होगा। हरिद्वार की सनातन धर्म संस्था का 5 लोगों का दल सोनिया और प्रियंका से मिलकर उनकी पूजा सामग्री लेकर गया है। गौरतलब है कि हर साल महाशिवरात्रि पर पाकिस्तान के प्राचीन कटासराज शिव में सोनिया गांधी पूजा सामग्री भेजतीं हैं और उनकी तरफ से महाशिवरात्रि पर रूद्राभिषेक होता है। ऐसा वो लोककल्याण की भलाई के लिए करते आए हैं।

मंदिर का महत्व
कटासराज पाकिस्तान के पाकिस्तानी पंजाब के उत्तरी भाग में नमक कोह पर्वत श्रृंखला में स्थित हिन्दुओं का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। यहां एक प्राचीन शिव मंदिर है। शिव मंदिर के अलावा और भी मंदिर यहां हैं। इतिहासकारों एवं पुरात्तव विभाग के अनुसार, इस स्थान को शिव नेत्र माना जाता है। जब मां पार्वती सती हुईं तो भगवान शिव की आंखों से दो आंसू टपके, एक आंसू कटास पर टपका जहां अमृत बन गया और यह आज भी महान सरोवर अमृत कुंड तीर्थ स्थान कटासराज के रूप में है, दूसरा आंसू अजमेर राजस्थान में टपका जहां पुष्करराज तीर्थ स्थान है।

यहां अज्ञातवास में रहे पांडव
ऐसी मान्यता है कि पाण्डव जब राजपाट जुए में हारकर वन-वन भटक रहे थे तब वह इस स्थान पर भी आए थे और चार साल तक यहां रहकर इस शिवलिंग की पूजा की थी। यहीं वह कुण्ड है जहां पांडव प्यास लगने पर पानी की खोज में पहुंचे थे। इस कुण्ड पर यक्ष का अधिकार था। पानी पीने के लिए पूछे गए उसके प्रश्नों का जवाब न दे पाने के कारण चारों भाइयों के मूर्क्षित होने के बाद अंत में युधिष्ठिर उन्हें खोजते हुए कुण्ड के किनारे पहुंचे। उन्होंने चारों भाइयों को मूर्छित पड़े देखा तो ऐसा करने वाले को ललकारा। यक्ष के सामने आने पर उन्होंने यक्ष के प्रश्नों का जवाब दिया, तब चारों भाइयों की मूर्झा समाप्त हुई।

दो रंग का है सरोवर का पानी
माना जाता है कि भगवान शिव की आंखों से गिर आंसू से यह सरोवर बना। इस सरोवर की खास बात यह है कि इसका पानी दो रंग का है। जहां सरोवर का पानी हरा है वहां सरोवर की गहराई कम है और जहां सरोवर का पानी बहुत गहरा है वहां का पानी गहरा नीला है।

भगवान राम का भी है मंदिर
ऐसी मान्यता है कि इस सरोवर के जल में स्नान करने से मनुष्य के रोग और दोष दूर हो जाते हैं। कटासराज में भगवान शिव के अलावा राम मंदिर और अन्य देवी देवताओं के भी मंदिर हैं जिन्हें सात घरा मंदिर परिसर कहा जाता है। धार्मिक दृष्टि से इतना महत्वपूर्ण होने के बाद भी यह मंदिर पाकिस्तान में उपेक्षित है।

शिव और सती का निवास
हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार शिव ने सती से शादी के बाद कई साल कटासराज में ही गुजार। मान्यता है कि कटासराज के तालाब में स्नान से सारे पाप दूर हो जाते हैं। 2005 में जब भारत के उप प्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी पाकिस्तान आए तो उन्होंने कटासराज की खास तौर से यात्रा की थी।




विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !