See More

वित्त मंत्रालय से सीमा समायोजन कर लगाने का आग्रह किया है : प्रधान

2020-06-30T21:49:23.8

नयी दिल्ली, 30 जून (भाषा) इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने वित्त मंत्रालय से प्रस्तावित सीमा समायोजन कर (बीएटी) को लगाने का आग्रह किया है। प्रधान ने मंगलवार को कहा कि इस कर के लागू होने से स्थानीय विनिर्माताओं को समान अवसर उपलब्ध हो सकेंगे।
प्रस्तावित बीएटी आयातित उत्पादों पर सीमा शुल्क के अतिरिक्त लगाया जाएगा। इससे आयातित उत्पादों का दाम स्थानीय स्तर पर विनिर्मित उत्पादों के बराबर हो सकेगा।
भारतीय उद्योग सरकार से घरेलू करों मसलन बिजली शुल्क, ईंधन शुल्क, स्वच्छ ऊर्जा उपकर, मंडी कर, रॉयल्टी, जैव विविधता शुल्क आदि को लेकर शिकायत करता रहा है। ये शुल्क घरेलू स्तर पर उत्पादित उत्पादों पर लगाए जाते हैं।
लेकिन कई तरह के आयातित सामान पर उनके संबंधित देशों में ये शुल्क नहीं लगाए जाते जिससे उनके उत्पादों को भारतीय बाजार में मूल्य के मोर्च पर लाभ मिलता है।
प्रधान ने कहा कि जहां तक घरेलू इस्पात क्षेत्र को समर्थन का सवाल है, सरकार इस दिशा में पहले ही काम कर रही है। उन्होंने कहा कि देश में इस्पात की काफी बड़ी स्थापित क्षमता है और देश में उसी के अनुरूप उत्पादन भी हो रहा है।
उन्होंने कहा, ‘‘आज भारत बड़ी इस्पात उत्पादन क्षमता के साथ दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा इस्पात विनिर्माता है। भारत की स्थापित उत्पादन क्षमता 15 करोड़ टन है, और यहां 11 करोड़ टन इस्पात का उत्पादन होता है। भारत जल्द 15 टन उत्पादन के स्तर को प्राप्त कर लेगा।’’
प्रधान ने कहा कि हम विशेष इस्पात और रक्षा तथा अंतरिक्ष परियोजनाओं के लिए भी इस्पात का उत्पादन कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमने वित्त मंत्रालय से सीमा समायोजन कर लगाने का आग्रह किया है।


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

Edited By

PTI News Agency

Related News