अमेरिका ने 26/11 मुंबई हमले के मास्‍टरमाइंड साजिद पर रखा 50 लाख डॉलर का ईनाम

2020-11-28T17:26:06.387

वाशिंगटनः भारत एवं अमेरिका दोनों ने अपनी छानबीन में पाकिस्‍तानी आतंकी साजिद मीर को 26/11 मुंबई आतंकी हमले के लिए दोषी पाया है। इस बीच अमेरिका ने साजिद मीर के खिलाफ कड़ा कदम उठाते हुए मीर की जानकारी देने वालों को 50 लाख डॉलर के ईनाम की घोषणा की है। साजिद अमेरिका आस्ट्रेलिया फ्रांस में भी कई हमलों के लिए जिम्मेदार है। भारत पिछले 12 वर्षों से इस आतंकी की तलाश कर रहा है। साजिद मीर पाकिस्तान के लाहौर का रहने वाला बताया जाता है और यह एफबीआई की मोस्ट वॉन्टेड की लिस्ट में भी शुमार है।

PunjabKesari

गिरफ्तारी से बचने के लिए पाकिस्‍तान  कर रहा मदद
एक रिपोर्ट के मुताबिक मुंबई हमले की साजिश तथा अमल कराने वाला साजिद मीर पाकिस्तानी एजेंसियों की मदद से ही गिरफ्तारी से बच रहा है।  साजिद मीर के बारे में कहा जाता है कि वह सात स्‍तरों वाली सुरक्षा में रहता है जो आमतौर पर पाकिस्तान की खुफिया आईएसआई ही मुहैया कराती है। पुलवामा हमले का मास्टरमाइंड मसूद अजहर भी पाकिस्‍तानी एजेंसी ISI के संरक्षण में ही बताया जाता है। रिवॉर्ड्स फॉर जस्टिस प्रोग्राम की ओर से जारी बयान के मुताबिक अमेरिका को साल 2008 में मुंबई में हुए आतंकी हमले के मास्‍टरमाइंड की तलाश है। इस आतंकी के बारे में जानकारी देने वाले को 50 लाख डॉलर का ईनाम दिया जा सकता है। रिपोर्ट के मुताबिक साजिद मीर ने ही मुंबई हमले की योजना बनाई थी और इसकी तैयारियां कराई थीं। साजिद मीर पर इलिनोइस की एक अदालत में भी केस चल रहा है। उस पर आतंकियों की मदद करने के आरोप हैं।  

PunjabKesari

पाकिस्तान ने दिखावे के लिए हाफिज सईद पर की कार्रवाई
बीते दिनों भारत ने पाकिस्तान से साजिद मीर का प्रत्यर्पण करने को कहा था लेकिन इमरान सरकार ने इसे अनसुना कर दिया था। अमेरिकी विदेश विभाग की ओर से जारी साल 2019 की आतंकवाद संबंधी रिपोर्ट में कहा गया था कि पाकिस्तान ने महज दिखावे के लिए आतंकी संगठन लश्कर के संस्थापक हाफिज सईद पर तो कार्रवाई की है लेकिन इमरान सरकार साजिद मीर के खिलाफ कोई कदम नहीं उठा रही है जबकि मुंबई हमले का खाका तैयार करने वाला यह आतंकी पाकिस्तान में खुला घूम रहा है। रिपोर्टों के मुताबिक एफबीआइ पहले से ही साजिद पर पांच मिलियन डॉलर यानी करीब 37.81 करोड़ रुपये के इनाम की घोषणा कर चुकी है। आतंकी साजिद मीर डेनमार्क के एक अखबार के कार्यालय पर हमले के मामले में भी वांछित बताया जाता है।

PunjabKesari
 

19 मोस्ट वांटेड आतंकियों के बारे में कुछ अता-पता नहीं
मुंबई हमले के 12 साल बाद पाकिस्तान ने हमले में भूमिका निभाने वाले प्रतिबंधित लश्कर-ए-तैयबा के 19 सदस्यों को मोस्ट वांटेड आतंकियों की सूची में डाल तो दिया है, लेकिन उन्हें पकड़ने में अब तक नाकामयाब रहा है। पाकिस्तान ने इन आतंकियों की गिरफ्तारी के लिए गंभीर कोशिश भी नहीं की। इतना ही नहीं, जो सात आतंकी मुकदमे का सामना कर रहे हैं, उन्हें भी सजा नहीं हुई है। सुरक्षा एजेंसियों को उन 19 मोस्ट वांटेड आतंकियों के बारे में कुछ अता-पता नहीं है। माना जा रहा है कि इनमें से कुछ पाकिस्तान में ही छिपे हैं। इनमें भारत में दो मोस्ट वांटेड जमात-उद-दावा का प्रमुख हाफिज सईद तथा जैश-ए-मुहम्मद का सरगना मसूद अजहर शामिल है।


Tanuja

Recommended News