जम्मू-कश्मीर के लालचौक पर सीडीएस रावत को दी गई श्रद्धांजलि

punjabkesari.in Thursday, Dec 09, 2021 - 07:32 PM (IST)

नेशनल डेस्कः हेलिकॉप्टर हादसे में जान गंवाने वाले देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) को देशभर में लोग श्रद्धांजलि दे रहे हैं। जम्मू-कश्मीर में भी सीडीएस रावत को श्रद्धांजलि दी गई। श्रीनगर के लाल चौक पर स्थानीय लोगों ने मोमबत्ती जलाकर श्रद्धांजलि अर्पित की। वहीं, श्रीनगर स्थित 15 कोर के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल डी पी पांडे ने गुरुवार को कहा कि रक्षा प्रमुख (सीडीएस) बिपिन रावत केवल बारामूला के लोगों से ही नहीं बल्कि पूरे कश्मीर से जुड़े थे।

देश के पहले रक्षा प्रमुख जनरल बिपिन रावत को श्रद्धाजंलि देने के लिए बारामूला में शोक सभा आयोजित की गयी थी। बुधवार को हुई हेलीकॉप्टर दुर्घटना में हुई जनरल रावत और 12 अन्य की मृत्यु पर जीओसी डागर क्षेत्र, मेजर जनरल अजय चंदपुरी और अन्य सिविल सेवा एवं जिला प्रशासन के अधिकारियों ने शोक व्यक्त किया। जनरल रावत जुलाई 2011 से बारामूला स्थित संवेदनशील डागर क्षेत्र में बतौर जीओसी अपनी सेवाएं दे चुके हैं, जिन्हें मुख्य रूप से ‘लोगों के जनरल' के रूप में जाना जाता था।

मीडियाकर्मियों से बात करते हुए लेफ्टिनेंट जनरल पांडे ने कहा,‘‘मैनें आजतक उरी, बारामूला और पूरे कश्मीर के लोगों के लिए प्यार की इतनी मात्रा किसी के भीतर नहीं देखी। अगर आप सोशल मीडिया पर देखें को खासतौर पर मीडियाकर्मी, सभी के साथ जनरल रावत की तस्वीर दिखेगी।'' उन्होनें कहा,‘‘जनरल रावत सभी के फोन उठाते थे, उनकी जरूरतें और शिकायतें सुनते थे। जिसके उपरांत वो मुझे बुलाकर सभी मांगों को लेकर लोगों की मदद करने को कहते थे। मुझे पूर्ण रूप से विश्वास है कि उनके जाने से बारामूला के लोगों ने सबसे अधिक खोया है।'' शुरुआती समय में लेफ्टिनेंट जनरल पांडे जब बटालियन में शामिल हुए थे उस समय उस कम्पनी के कमांडर जनरल रावत थे।

जनरल रावत के साथ अपने अनुभव साझा करते हुए लेफ्टनेंट जनरल पांडे ने कहा,‘‘ मैं दिल से बारामुल्ला आना चाहता था जहां वह जीओसी थे। साथ ही वह 5 सेक्टर (राष्ट्रीय राइफल्स) के कमांडर भी थे, यह दो दशक लोगों की वजह से उनके दिल के सबसे करीब थे। मैं मानता हूं कि उनके जाने से आप सब भारतीय सेना, सैन्य बल, और पूरा देश कितना दुखी महसूस कर रहें है। उनकी पत्नी और अन्य अधिकारियों की मृत्यु हो जाना एक बड़ी क्षति है, जिससे उबरने में हम सबको काफी समय लगेगा।'


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Yaspal

Related News

Recommended News