See More

बैन होने के बाद TikTok की सफाई- किसी भी भारतीय की जानकारी नहीं की जा रही लीक

2020-06-30T11:37:48.033

नेशनल डेस्क: गलवान घाटी में चीन और भारत के सैनिकों के बीच संघर्ष के मद्देनजर केंद्र सरकार की तरफ से टिकटॉक समेत 59 चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगाए जाने के बाद कंपनी की ओर से मंगलवार को पहला बयान आया जिसमें कहा गया कि वह आदेश का पालन करने की प्रक्रिया में हैं। सरकार ने सोमवार रात 59 चीनी पर प्रतिबंध लगाया गया है। टिकटॉक इंडिया प्रमुख निखिल गांधी की तरफ से आज जारी बयान में कहा गया है कि हमने किसी भी भारतीय टिकटॉक यूजर की कोई भी जानकारी विदेशी सरकार या फिर चीन की सरकार को नहीं दी है।

PunjabKesari

निखिल ने कहा कि हमें स्पष्टीकरण और जवाब देने के लिए संबंधित सरकारी पक्षों से मिलने के लिए आमंत्रित किया गया है। टिकटॉक ने अपने प्लेटफॉर्म को भारत में 14 भाषाओं में उपलब्ध करा कर इंटरनेट का लोकतांत्रिकरण किया है। इस ऐप का इस्तेमाल लाखों लोग करते हैं। इनमें कुछ कलाकार, कहानीकार और शिक्षक हैं और अपनी जिंदगी के अनुसार वीडियो बनाते हैं। वहीं कई उपयोगकर्ता ऐसे भी हैं, जिन्होंने पहली बार टिकटॉक के जरिए इंटरनेट की दुनिया को देखा है।

PunjabKesari

चीनी ऐप में टिकटॉक भारत में बहुत प्रचलित है। सरकार के प्रतिबंध के बाद गूगल प्ले स्टोर और आईफोन से टिकटॉक को हटा दिया गया है। गौरतलब है कि बढ़ते तनाव के बीच सरकार ने चीन से संचालित टिकटॉक, शेयर इट, हेलो, यू सी न्यूज, यू सी ब्राउज़र, क्लब फैक्ट्री सहित 59 ऐप को प्रतिबंधित कर दिया है। सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने सूचना प्रौद्योगिकी कानून के तहत उन ऐप पर प्रतिबंध लगाया है जो देश की संप्रभुता और अखंडता, देश की रक्षा तथा राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए जोखिम वाले हैं। 

PunjabKesari

मंत्रालय ने कहा कि एंड्रॉयड और आईओएस प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कुछ मोबाइल ऐप को लेकर विभिन्न माध्यमों से मिली शिकायतों के साथ ही कई रिपोर्ट में इन ऐप के देश के बाहर स्थित सर्वर से अवैध तरीके से उपयोगकर्ताओं के डाटा की चोरी करने या गलत उपयोग करने की जानकारी मिली थी जिसके बाद उन पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया गया है। 


vasudha

Related News