झारखंड : उपचुनाव में भाजपा उम्मीदवार को पकड़ने पुलिस पहुंची कांकेर, राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप तेज

punjabkesari.in Tuesday, Nov 29, 2022 - 12:03 AM (IST)

नेशनल डेस्क : छत्तीसगढ़ में हो रहे भानुप्रतापपुर उपचुनाव के बीच झारखंड की पुलिस वर्ष 2019 में हुए बलात्कार के एक मामले की जांच के लिए सोमवार को यहां पहुंची। राज्य के सत्ताधारी दल कांग्रेस ने दावा किया है कि भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार ब्रह्मानंद नेताम इस मामले के आरोपी हैं। राज्य में इस उपचुनाव के दौरान झारखंड पुलिस की कार्रवाई से राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है। मुख्य विपक्षी दल भाजपा ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर उपचुनाव में हार की आशंका से नेताम की छवि खराब करने के लिए हेमंत सोरेन के नेतृत्व वाली सरकार के साथ मिलीभगत कर साजिश रचने का आरोप लगाया है।

राज्य के नक्सल प्रभावित कांकेर जिले के अंतर्गत अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित भानुप्रतापपुर विधानसभा सीट से विधायक मनोज सिंह मंडावी की मृत्यु के बाद यह ​सीट रिक्त हुई है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि झारखंड के टेल्को पुलिस थाने के पुलिस दल ने वर्ष 2019 में बलात्कार के एक मामले के आरोपी ब्रह्मानंद नेताम, केशव सिन्हा, नरेश सोनी और दीपंकर सिन्हा का पता लगाने के लिए आज कांकेर ​पुलिस से संपर्क किया। सभी आरोपी कांकेर जिले के निवासी हैं।

अधिकारी ने बताया कि झारखंड पुलिस ने भारतीय दंड विधान, यौन अपराधों से बालकों का संरक्षण (पॉक्सो) अधिनियम और अनैतिक व्यापार (रोकथाम) अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया था। उन्होंने बताया कि दल ने जिले में विभिन्न स्थानों पर तलाशी ली और आगे की कार्रवाई की जा रही है। अभी तक चार आरोपियों में से किसी को भी गिरफ्तार नहीं किया गया है। इधर, झारखंड पुलिस के पहुंचने की सूचना मिलते ही विधायक और पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, पूर्व मंत्री केदार कश्यप, प्रेमप्रकाश पाण्डेय और विक्रम उसेंडी समेत भाजपा के अन्य नेता भानुप्रतापपुर स्थित पार्टी के चुनाव कार्यालय पहुंच गए।

वहीं, भानुप्रतापपुर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत चारामा कस्बे के रहने वाले भाजपा प्रत्याशी नेताम भी वहां पहुंच गए। यहां संवाददाताओं से बातचीत के दौरान बृजमोहन अग्रवाल ने आरोप लगाया कि उपचुनाव में हार की आशंका से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने झारखंड सरकार के साथ मिलकर नेताम को बदनाम करने की साजिश रची है। अग्रवाल ने कहा, ‘‘यदि भूपेश बघेल जी में हिम्मत होती और लोकतंत्र की रक्षा करना चाहते तो वे झारखंड सरकार से कहते कि उपचुनाव होने तक कार्रवाई न करें। लेकिन बघेल सरकार ने नेताम की छवि खराब करने की साजिश रची।

कांग्रेस के कृत्य ने आदिवासी समुदाय और भानुप्रतापपुर के लोगों का अपमान किया है।'' उन्होंने कहा, ‘‘पूरा आदिवासी समाज और भानुप्रतापपुर के लोग कांग्रेस को सबक सिखाएंगे। यदि नेताम को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे डाल दिया जाता है, तो भी वह उपचुनाव में विजयी होंगे और कांग्रेस सरकार को सबक सिखाएंगे।'' बीस नवंबर को कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम ने दावा किया था कि झारखंड पुलिस ने 15 मई, 2019 को जमशेदपुर के टेल्को पुलिस थाने में 15 वर्षीय बालिका को कथित तौर पर देह व्यापार में धकेले जाने और कई लोगों द्वारा बलात्कार किए जाने का मामला दर्ज किया था।

मरकाम के अनुसार, शुरू में इस मामले में पांच लोगों को पकड़ा गया था। बाद में पूर्व भाजपा विधायक नेताम और अन्य लोगों को इसमें आरोपी बनाया गया था। मरकाम ने नेताम की उम्मीदवारी को रद्द करने के लिए रिटर्निंग अधिकारी को एक शिकायत भी दी है। मरकाम ने शिकायत में कहा है कि नेताम ने अपने चुनावी शपथ पत्र में अपने खिलाफ दर्ज मुकदमे को छुपाया है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Parveen Kumar

Related News

Recommended News