बेटे के सामने महिला कांस्टेबल ने पुलिसवाले के साथ की अश्लील हरकतें, 4 पुलिस अधिकारी संस्पेंड

2021-09-11T13:22:35.95

नेशनल डेस्क: राजस्थान पुलिस के विशेष कार्यबल (एसओजी) ने राजस्थान पुलिस सेवा (आरपीएस) के एक अधिकारी को नैतिक कदाचार के मामले में शुक्रवार को गिरफ्तार किया।यह अधिकारी हाल में सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो की वजह से चर्चा में था जिसमें वह कथित रूप से एक महिला कांस्टेबल के साथ आपत्तिजनक अवस्था दिख रहा है। अधिकारी व महिला कांस्टेबल को विभागीय जांच के बाद नैतिक कदाचार के मामले में आठ सितंबर को निलंबित कर दिया गया था। एसओजी के अतिरिक्त महानिदेशक अशोक राठौड़ ने बताया कि अजमेर में ब्यावर के पुलिस क्षेत्राधिकारी अधिकारी (सीओ) रहे हीरालाल सैनी को बृहस्पतिवार रात उदयपुर के एक रिजॉर्ट से हिरासत में लिया गया था। उन्हें शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं, इस मामले 4 पुलिस अधिकारी संस्पेंड हो गए हैं। 

PunjabKesari

उन्होंने कहा कि अधिकारी के खिलाफ पोक्सो कानून के तहत मामला दर्ज किया गया है। क्या यह मामला सूचना प्रौद्योगिकी कानून की धारा के तहत भी आता है, इसकी पड़ताल की जा रही है।इस कथित वीडियो में सैनी व महिला कांस्टेबल एक स्वीमिंग पूल में यौन गतिविधियों में संलिप्त दिखते हैं। महिला कांस्टेबल का छह साल का बेटा भी उस समय उसी पूल में खेल रहा होता है। खबरों के मुताबिक सैनी का दावा है कि वीडियो को 'छेड़छाड़ कर' बनाया गया है। इस बारे में महिला कांस्टेबल के पति ने छितावा पुलिस थाने, नागौर में शिकायत दर्ज करवाई है। इसके अनुसार उनकी शादी 2001 में हुई और 2008 में महिला की पुलिस कांस्टेबल के रूप में नौकरी लग गई। उनका छह साल का एक बेटा भी है। 

PunjabKesari
शिकायत के अनुसार 13 जुलाई को उसने पाया कि उसकी पत्नी ने अपने व्हाटसऐप स्टेटस में एक वीडियो लगाया है जिसमें वह, अधिकारी सैनी के साथ एक स्वीमिंग पूल में आपत्तिजनक अवस्था में है। उस समय उनका बेटा भी उसी पूल में था। उसने महिला व अधिकारी के व्यवहार को बच्चों के खिलाफ अपराध बताते हुए शिकायत दर्ज करवाई थी। यह शिकायत अगस्त महीने में दर्ज हुई लेकिन संबंधित थानाधिकारी ने कोई कार्रवाई नहीं करते हुए इसे लंबित रखा। इसको लेकर तीनों सैनी, महिला कांस्टेबल व शिकायत दर्ज नहीं करने वाले थानाधिकारी के खिलाफ विभागीय जांच शुरू की गई है। राजस्थान राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने भी मामले का संज्ञान लेते हुए तीन दिन में रिपोर्ट मांगी है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Recommended News