दिल्ली में किसानों का साथ देकर एक तीर से दो निशाने साधने की फिराक में CM केजरीवाल!

2020-11-28T16:54:55.857

नेशनल डेस्क: केन्द्र सरकार सितंबर माह में 3 नए कृषि विधेयक लाई थी, जिन पर राष्ट्रपति की मुहर लगने के बाद वे कानून बन चुके हैं, लेकिन किसानों को ये कानून रास नहीं आया जिसके बाद उन्होंने जमकर इस बिल का विरोध किया। जिन बिलों को मोदी सरकार किसानों के लिए वरदान बता रही है, उन्हीं बिलों के खिलाफ अब हजारों किसान दिल्ली में धरना प्रदर्शन कर रहे हैं।  

PunjabKesari

दिल्ली की सीमा तक पहुंचने के लिए इन किसानों को आठ बड़े बैरिकेड पार करने पड़े और जगह-जगह सुरक्षाबलों की घेराबंदियों को तोड़ते हुए आगे बढऩा पड़ा, लेकिन ये सब कुछ इतने योजनाबद्ध तरीके से किया गया कि प्रशासन की तमाम रणनीतियों ने किसानों के आगे घुटने टेक दिए। दिल्ली पहुंचने पर जब दिल्ली पुलिस ने किसानों को रोकते हुए दिल्ली के अरविंद केजरीवाल सरकार से नौ स्टेडियमों को किसानों के लिए अस्थाई जेल बनाने की मांग की तो उन्होंने तुंरत इससे मना करते हुए किसानों की मांगों को सही ठहराया।  किसानों का साथ देकर केजरीवाल एक तीर से दो निशाने साधने की कोशिश कर रहे हैं। 

PunjabKesari


एक तीर से दो निशाने साधने की फिराक में केजरीवाल
दरअसल दो साल बाद फिर से पंजाब में विधानसभा चुनाव होने हैं ऐसे में सीएम केजरीवाल ऐसी कोई गलती नहीं करना चाहते जिससे उन्हें या उनकी पार्टी आप को किसानों के गुस्से का सामना करना पड़ा। अगर हम 2014 के लोकसभा चुनाव की तरफ नजर डाले तो आप पार्टी को 13 सीटों में से आप को सिर्फ 4 सीटों पर जीत हासिल हुई थी, जबकि 2019 के चुनावों में आप को सिर्फ एक सीट पर जीत मिल सकी।

PunjabKesari

वहीं भगवा पगड़ी पहनकर और पंजाबी में भाषण देने के बावजूद पंजाबियों ने नरेंद्र मोदी को नकार दिया था। इस चुनाव में उनकी पार्टी व एनडीए गठबंधन मात्र चार सीटों पर ही जीत हासिल कर सका था। आंकड़े बताते हैं कि राज्य के कुल 1.90 करोड़ मतदाताओं में से 1.15 करोड़ कृषक हैं। इसके अलावा 117 विधानसभा सीटों में से 66 सीटें पूरी तरह ग्रामीण हैं, जहां किसानों का ही बोलबाला है। ऐसे में दो साल बाद फिर से राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले अरविंद केजरीवाल कोई ऐसी गलती नहीं करना चाहते जो उनको भारी पड़े। वहीं किसानों के मुद्दे पर ही शिरोमणि अकाली दल और बीजेपी का गठबंधन टूट चुका है, ऐसे में अरविंद केजरीवाल किसानों का साथ देकर एक तीर से दो निशाने साधने की फिराक में है। 

PunjabKesari

आप सरकार से स्टेडियम को अस्थायी जेल बनाने की दिल्ली पुलिस को नहीं मिली इजाजत 
आपको बतां दें कि केंद्र के नए कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली चलो मार्च के तहत राष्ट्रीय राजधानी आने वाले किसान प्रदर्शनकारियों के लिए शहर के स्टेडियमों को अस्थायी जेलों के तौर पर इस्तेमाल करने की अनुमति शुक्रवार को आम आदमी पार्टी (आप) सरकार ने दिल्ली पुलिस को नहीं दी। दिल्ली पुलिस के अनुरोध को खारिज करते हुए दिल्ली के गृह मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि प्रत्येक भारतीय नागरिक को शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने का संवैधानिक अधिकार है जिसके लिये उन्हें जेल में नहीं रखा जा सकता।

PunjabKesari

प्रमुख गृह सचिव को लिखे पत्र में जैन ने कहा कि केंद्र सरकार को प्रदर्शनकारियों की मांगों को स्वीकार करना चाहिए और किसानों को जेलों में डालना इसका समाधान नहीं है। दिल्ली पुलिस ने सिंघु और टीकरी बॉर्डर पहुंचे किसानों को तितर-बितर करने के लिये उनपर आंसू गैस के गोले दागे। अधिकतर प्रदर्शनकारी किसान पंजाब से हैं। किसान नेताओं से चर्चा के बाद दिल्ली पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश की और बुराड़ी में निरंकारी मैदान पर शांतिपूर्ण प्रदर्शन की इजाजत दे दी। जैन ने अपने पत्र में यह भी लिखा कि अहिंसक तरीके से विरोध जताना हर भारतीय का अधिकार है। इसके लिये उन्हें जेल नहीं भेजा जा सकता।ज्ज् जैन ने पत्र में लिखा, इसलिये, दिल्ली सरकार स्टेडियमों को जेल में बदलने के दिल्ली पुलिस के आवेदन को खारिज करती है।

PunjabKesari
 


Edited By

Anil dev

Recommended News