Online Gaming: कोरोना काल में महिलाओं का बढ़ा ऑनलाइन गेमिंग का क्रेज, इतने फीसदी हुआ इजाफा

punjabkesari.in Wednesday, Jan 19, 2022 - 12:32 PM (IST)

नेशनल डैस्क: कोरोना महामारी के बाद ऑनलाइन गेमिंग में महिला गेमर्स की संख्या में तेजी से वृद्धि हुई है जिसे देखते हुए अब गेमिंग कंपनियां ज्यादा से ज्यादा महिलाओं को नौकरी देने पर ध्यान केंद्रित कर रही हैं जिसे उनके उपभोक्ताओं का आधार कायम रह सके। इन कंपनियों में जिंगा, सुपर गेमिंग,गैमेस्टेसी, नाउ.जीजी, और गेमजॉप शामिल हैं। यह कंपनियां गेम डिजाइन, गुणवत्ता आश्वासन, खेल विकास और उत्पाद प्रबंधन पर काम करने वाली टीमों में महिलाओं को काम पर रख रहे हैं। स्टेटिस्टा के आंकड़ों के अनुसार भारत में गेमिंग क्षेत्र में कार्यरत लोगों की संख्या 2022 में 40,000 को पार करने का अनुमान है।

गेम डिजाइन में भ होगी महिलाओं की भूमिका
जिंगा में सीनियर डायरेक्टर (एचआर) भावना तलवार ने एक मीडिया रिपोर्ट में कहा कि हमारे मोबाइल और कैजुअल गेम खेलने वाले आधे से ज्यादा खिलाड़ी महिलाएं हैं, इसे हमारे कार्यबल में भी प्रतिबिंबित करने की जरूरत है। अमेरिकी कंपनी, जिसके भारत में लगभग 600 कर्मचारी हैं, महिला कर्मियों पर दृष्टिकोण पर ध्यान केंद्रित कर रही है। पुणे स्थित सुपर गेमिंग में लगभग 15 फीसदी कर्मचारी महिलाएं हैं। मास्कगुन और सिली रोयाल गेम्स की निर्माता वंदना शर्मा कहती हैं कि गेम डिजाइन और क्वालिटी एश्योरेंस जैसी टीमों में महिलाओं के लिए हायरिंग भी जारी है। उन्होंने बताया कि आने वाले महीनों में सुपर गेमिंग अपने सीईओ रॉबी जॉन को नेतृत्व की भूमिकाओं के लिए महिला कर्मचारियों की भर्ती की सलाह देने के लिए एक पहल शुरू करने पर विचार कर रही है।

करियर से ब्रेक लेने वाली महिलाओं के लिए अवसर
बेंगलुरू स्थित गैमेस्टेसी जैसी कुछ कंपनियां अधिक समावेशी गेम बनाने के लिए गेम डिज़ाइन की भूमिकाओं में अधिक महिलाओं को नियुक्त करना चाह रही हैं।गैमेस्टेसी के फाउंडर दानिश सिन्हा ने बताया कि गेम्स डिजाइन पहले महिलाओं द्वारा नहीं किया जाते थे। अब हम चाहते हैं कि अधिक महिलाएं अधिक समावेशी गेम बनाने के लिए हमारे विचारों, डिजाइन और कथा टीमों का नेतृत्व करें। वह कहते हैं कि स्टार्टअप ने महिला कलाकारों और चित्रकारों के साथ जुड़ने और उन्हें काम पर रखने के लिए डिजाइन परिसरों के साथ भागीदारी की है। नाउ.जीजी जो गेमिंग समुदायों को किसी भी डिवाइस या ऑपरेटिंग सिस्टम पर गेम खेलने में सक्षम बनाता है। इस कंपनी ने ने उन महिला कर्मचारियों को काम पर रखा है, जिन्होंने पारिवारिक कारणों से अपने करियर में ब्रेक लिया था। यह महिला कर्मचारियों के स्वास्थ्य और करियर संबंधी चिंताओं को दूर करने के लिए नियमित सत्र भी चला रहा है।

गेमजॉप कंपनी में 42 फीसदी महिलाएं
एक अन्य गेमिंग कंपनी गेमजॉप अपने इंटरव्यू पैनल को और अधिक समावेशी बनाने पर काम कर रही है ताकि महिला उम्मीदवारों को इंटरव्यू राउंड के दौरान खुद को बेहतर तरीके से व्यक्त करने का मौका मिले। गुड़गांव स्थित इस कंपनी के को फाउंडर गौरव अग्रवाल ने कहा कि वर्तमान में हमारे कार्यबल का लगभग 42 फीसदी महिलाओं से बना है, और हमारा ध्यान महिला प्रतिभा को बनाए रखने के लिए काम के माहौल को और अधिक समावेशी बनाने पर है।

2022 में भारतीय ऑनलाइन गेमर्स की संख्या
एक रिपोर्ट के मुताबिक 2022 में भारतीय ऑनलाइन गेमर्स की संख्या बढ़कर 510 मिलियन होने की उम्मीद है, जो 2020 में 360 मिलियन से ज्यादा है। साल 2021 में, भारत के ऑनलाइन गेमिंग मार्केट में 136 अरब रुपये ($1.80 बिलियन) का रेवेन्यू था। अगले पांच वर्षों में इसके 21 प्रतिशत की चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर से 290 अरब रुपये तक बढ़ने की उम्मीद है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Related News

Recommended News