B'day special: भारत के जेम्स बॉन्ड जिनके नाम से ही थर्राता है पाकिस्तान, भिखारी बनकर जुटाई थी परमाणु परीक्षण की सारी जानकारी

punjabkesari.in Thursday, Jan 20, 2022 - 12:02 PM (IST)

नई दिल्लीः जेम्स बॉन्ड ऑफ इंडिया के नाम से मशहूर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल का आज जन्मदिन है। अजित डोभाल को पीएम नरेंद्र मोदी का बेहद खास माना जाता है। सर्जिकल स्ट्राइक से लेकर नगा शांति समझौता, ऑपरेशन ब्लैक थंडर से लेकर आईएसआईएस के चंगुल से भारतीय नर्सों को सुरक्षित निकालने तक अजित डोभाल के नाम पर कई उपलब्धियां हैं। उनकी डिक्शनरी में 'नामुकिन' शब्द है ही नहीं। डोभाल जिस काम के लिए मैदान में उतर जाएं, उसे अंजाम तक पहुंचाकर ही दम लेते हैं। फिर चाहे हालात कैसे भी हों। मोदी सरकार के मिस्टर भरोसेमंद बन चुके राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) ने देश के अंदर ही नहीं बाहर भी कई ऐसे सफल ऑपरेशन को अंजाम दिया है, जो बिल्कुल नामुमकिन लगते थे। 

PunjabKesari

2014 में केंद्र में मोदी सरकार बनते ही सबसे पहले अजीत डोभाल को देश का राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार नियुक्त किया गया। इससे ये साबित हो गया था कि पीएम मोदी डोभाल पर कितना भरोसा करते हैं। देश के अंदर और बाहर के ऑपरेशन में डोभाल आज भी सर्वेसर्वा होते हैं। वहीं पूरी रणनीति बनाते हैं और वो रणनीति कैसे कारगर होगी इसकी प्लानिंग भी करते हैं। पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक हो या एयर स्ट्राइक डोभाल का रोल सबसे अहम था।

PunjabKesari
दिल्ली हिंसा के दौरान हालात पर नजर रखे रहे अजित डोभाल
नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और एनआरसी के विरोध में दिल्ली में काफी विरोध हो रहा था। इसके बाद अचानक दिल्ली में हिंसा भड़क गई। अजित डोभाल ने लगातार हालात पर नजर बनाए रखा और अधिकारियों को आगे की कार्रवाई के लिए निदेशित करते रहे। कुछ दिनों के बाद खुद डोभाल दिल्ली की सड़कों पर उतरे और हालात का जायजा लिया।

PunjabKesari

धारा 370 खत्म होने के बाद कश्मीर में घूमते नजर आए डोभाल
पाकिस्तान लगातार कश्मीर की आवाम को भड़का रहा था। धारा 370 खत्म होने के बाद डोभाल खुद कश्मीर की सड़कों पर उतरे और लोगों को विश्वास में लिया। डोभाल आतंकियों के भी निशाने पर रहते हैं। लेकिन इसकी परवाह किए बिना वो काफी समय कश्मीर में घूमें और लोगों से बातचीत की।

PunjabKesari

नॉर्थ-ईस्ट, जम्मू कश्मीर और पंजाब में भी डोभाल के ऑपरेशन
1991 में खालिस्तान लिबरेशन फ्रंट द्वारा अपहृत किए गए रोमानियाई राजनयिक लिविउ राडू को बचाने की सफल योजना बनाने वाले अजीत डोभाल ही थे। डोभाल ने पाकिस्तान और ब्रिटेन में राजनयिक जिम्मेदारियां संभालीं। एक दशक तक उन्होंने खुफिया ब्यूरो की ऑपरेशन शाखा का नेतृत्व किया। अजीत डोभाल 33 साल तक नॉर्थ-ईस्ट, जम्मू-कश्मीर और पंजाब में खुफिया जासूस भी रहे। वह 2015 में मणिपुर में आर्मी के काफिले पर हमले के बाद म्यांमार की सीमा में घुसकर उग्रवादियों के खात्मे के लिए सर्जिकल स्ट्राइक ऑपरेशन के हेड प्लानर रहे।

PunjabKesari

ऑपरेशन ब्लू स्टार में निभाई थी बड़ी भूमिका
डोभाल को जासूसी का लगभग 37 साल का अनुभव है। 2014 में मोदी सरकार आने के बाद सबसे पहले डोभाल को सबसे अहम जिम्मेदारी सौंपी गई। उनको 31 मई 2014 को देश का राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बनाया गया। रॉ के अंडर कवर एजेंट के तौर पर डोभाल सात साल पाकिस्तान के लाहौर में एक पाकिस्तानी मुस्लिम बनकर रहे थे। जून 1984 में अमृतसर के स्वर्ण मंदिर पर हुए आतंकी हमले के काउंटर ऑपरेशन ब्लू स्टार में जीत के नायक बने। अजीत डोभाल रिक्शा वाला बनकर मंदिर के अंदर गए और आतंकियों की जानकारी सेना को दी, जिसके आधार पर ऑपरेशन में भारतीय सेना को सफलता मिली।

PunjabKesari

जब भिखारी बनकर जुटाई पाकिस्तान के परमाणु परीक्षण की जानकारी
70 के दशक में पाकिस्तान परमाणु परीक्षण करने की तैयारी कर रहा था। इसको लेकर कोई पुख्ता जानकारी भारत के पास नहीं थी. लेकिन, इतनी बड़ी जानकारी जुटाने की जिम्मेदारी मिली अजीत डोभाल को। डोभाल पाकिस्तान गए और सबसे पहले उस इलाके को खोजा जहां इसकी तैयारी चल रही थी। सेंटर के बाहर बैठकर भीख मांगना शुरू कर दिया। इस बात की भी पुख्ता जानकारी नहीं थी कि सेंटर में परमाणु परीक्षण की तैयारी चल रही है। तब उन्होंने वो जगह खोजी जहां उस सेंटर के वैज्ञानिक बाल कटवाते थे। उन्होंने बालों का सैंपल इकट्ठा किया और उसे भारत भेजा

PunjabKesari

कीर्ति चक्र से सम्मानित हैं अजीत डोभाल
अजीत डोभाल भारत के इकलौते ऐसे नौकरशाह हैं जिन्हें कीर्ति चक्र और शांतिकाल में मिलने वाले गैलेंट्री अवॉर्ड से नवाजा गया है। डोभाल कई सिक्युरिटी कैंपेन का हिस्सा रहे हैं। इसी के चलते उन्होंने जासूसी की दुनिया में कई कीर्तिमान स्थापित किए हैं। अजीत डोभाल का जन्म 1945 को पौड़ी गढ़वाल में हुआ था। उनकी पढ़ाई अजमेर मिलिट्री स्कूल में हुई है। केरल के 1968 बैच के IPS अफसर डोभाल अपनी नियुक्ति के चार साल बाद 1972 में ही इंटेलीजेंस ब्यूरो (IB) से जुड़ गए थे।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Related News

Recommended News