भारी बारिश और समुद्र में तेज लहरें उठने के बीच केरल में हाई अलर्ट, राहत शिविरों में पहुंचाए जा रहे ल

punjabkesari.in Friday, May 14, 2021 - 04:28 PM (IST)

नेशनल डेस्क: केरल में भारी बारिश की चेतावनी के बीच शुक्रवार को हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है। राज्य सरकार ने लोगों के लिए राहत शिविर शुरू किये हैं और निचले इलाकों में रह रहे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। केरल के कई हिस्सों में गुरुवार रात से बारिश हो रही है। तिरुवनंतपुरम में अरुविक्कारा बांध में पानी के तेज बहाव के कारण बांध के फाटक गुरुवार रात को खोल दिए गए और लगातार बारिश के कारण करमना और किल्ली नदियों में जलस्तर उफान पर है। अधिकारियों ने बताया कि इन नदियों के किनारे निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को एहतियात के तौर पर सुरक्षित स्थानों और राहत शिविरों में पहुंचाया जा रहा है। रातभर हुई बारिश के चलते दक्षिणी कोल्लम जिला के कई हिस्से जलमग्न हो गए हैं और पेड़ उखड़ गए हैं।

PunjabKesari

तटीय कोल्लम, अलप्पुझा और एर्णाकुलम जिलों में समुद्र में तेज लहरें उठने के कारण कई मकानों को नुकसान पहुंचा है। एर्णाकुलम का तटीय गांव चेल्लानम से समुद्री हलचल के कारण सबसे अधिक प्रभावित हुए इलाकों में से एक है। मलप्पुरम जिला के पोन्नानी में वेलिनाकोड और कोझिकोड के कसाबा में समुद्र में तेज लहरें उठने की सूचना मिली। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) की कमांडेंट रेखा नांबियार ने बताया कि एहतियात के तौर पर NDRF की नौ टीमें केरल भेजी गई हैं। उन्होंने कहा कि वायनाड और इडुक्की जिले भूस्खलन संभावित क्षेत्र हैं। हमने भूस्खलन की स्थिति में जरूरी उपकरण भेजे हैं। उन्होंने कहा कि covid-19 के मद्देनजर वे सभी एहतियात बरत रहे हैं। यहां भू राजस्व आयुक्तालय ने बताया कि कुल 87 लोगों को तिरुवनंतपुरम, कोल्लम, इडुक्की और एर्णाकुलम में खोले गए चार राहत शिविरों में भेजा गया है।

PunjabKesari

कुल 3,071 भवनों की पहचान की गई है, जिन्हें राहत शिविर में बदला जाएगा। सूत्रों ने बताया कि इससे एक बार में 4,23,080 लोगों के रहने का इंतजाम हो सकता है। अधिकारियों ने बताया कि कोविड-19 महामारी के कारण कई जगहों पर लोग राहत शिविरों में जाने से मना कर रहे हैं। हालांकि आपदा प्रबंधन अधिकारियों ने बताया कि शिविरों में महामारी के दिशा निर्देशों के मुताबिक व्यवस्था की गई है। मौसम विभाग ने अपने पूर्वानुमान में तिरुवनंतपुरम, कोट्टायम, एर्णाकुलम, इडुक्की, त्रिशूर, पलक्कड़, मलप्पुरम, कोझिकोड और वायनाड जिलों में ‘यलो अलर्ट' जारी किया है।

PunjabKesari

अधिकारियों ने स्थिति सामान्य होने तक समुद्र में मछली पकड़ने पर रोक लगा दी है। केरल राज्य आपदा प्रबधंन प्राधिकार (केएसडीएमए) ने भूस्खलन संभावित क्षेत्रों और तटीय इलाकों में रहने वाले लोगों से सभी एहतियात बरतने का अनुरोध किया है। विभिन्न जिला प्रशासनों ने भारी बारिश के मद्देनजर राहत अभियानों के संचालन के लिए जिला, तालुक और पंचायत स्तर पर नियंत्रण कक्ष बनाए हैं।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Seema Sharma

Related News

Recommended News